Home Viral सच्चाई #FactCheck क्या सुन्नी वक्फ बोर्ड अयोध्या में 5 एकड़ जमीन पर बाबरी...

#FactCheck क्या सुन्नी वक्फ बोर्ड अयोध्या में 5 एकड़ जमीन पर बाबरी हॉस्पिटल बनाएगा, जानिए सच

फेसबुक और ट्विटर पर एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है. दावा किया गया है कि सुन्नी वक्फ बोर्ड ने मस्जिद बनाने के लिए मिली पांच एकड़ जमीन पर बाबरी अस्पताल बनाने का फैसला लिया है. उसका डायरेक्टर डॉ. कफील को बनाया जाएगा.

अयोध्या में 5 अगस्त को राम जन्मभूमि की नींव रखी जा चुकी है. इसको लेकर सोशल मीडिया पर कई यूजर्स ने कहा था कि वहां पर अस्पताल या स्कूल बना दिया जाए. अब सोशल मीडिया पर एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है. इसमें कहा गया है कि मस्जिद बनाने के लिए मिली पांच एकड़ जमीन पर बाबरी अस्पताल बनाने का फैसला लिया गया है. दावा किया गया कि सुन्नी वक्फ बोर्ड ने उस जमीन पर बाबरी हॉस्पिटल बनाएगा, जहां AIIMS के बराबर मुफ्त सुविधा मिलेगी.

फेसबुक पर मार्क्स @pravinshinde1990 नाम से बने अकाउंट से 8 अगस्त को पोस्ट किया गया,

#मास्टरस्ट्रोक

सुप्रीम कोर्ट ने जो पांच एकड़ जमीन दी थी, सुन्नी वक्फ़ बोर्ड ने लिया फैसला. उस पर बनेगा #बाबरी_हास्पिटल, जो #AIIMS के बराबर #मुफ्त सुविधा देगा.
जाने माने डाक्टर #KafilKhan को इस अस्पताल का प्रशासक बनाया जा सकता है. इस अस्पताल में एक पूरा फ्लोर #बच्चों के लिए #आरक्षित होगा, जिसमें चमकी बुखार(Viral Megningits) सहित कई बिमारियों का इलाज होगा.

#मास्टरस्ट्रोक सुप्रीम कोर्ट ने जो पांच एकड़ जमीन दी थी, सुन्नी वक्फ़ बोर्ड ने लिया फैसला उस पर बनेगा #बाबरी_हास्पिटल…

Posted by मार्क्स on Friday, August 7, 2020

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

Barwaratanpur यूपी इंडिया वाले नाम से बने पेज से भी 7 अगस्त को इसी तरह की पोस्ट की गई.

#मास्टरस्ट्रोक सुप्रीम कोर्ट ने जो पांच एकड़ जमीन दी थी, सुन्नी वक्फ़ बोर्ड ने लिया फैसला उस पर बनेगा #बाबरी_हास्पिटल…

Posted by Barwaratanpur यूपी इंडिया वाले on Friday, August 7, 2020

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

Shaikh नाम से बने फेसबुंक पेज से भी 7 अगस्त को इस तरह की पोस्ट की गई. इसमें लिखा गया,

#मास्टरस्ट्रोक

सुप्रीम कोर्ट ने जो पांच एकड़ जमीन दी थी, सुन्नी वक्फ़ बोर्ड ने लिया फैसला, उस पर बनेगा #बाबरी_हास्पिटल जो #AIIMS के बराबर #मुफ्त सुविधा देगा.
इनके अलावा कई अन्य फेसबुक यूजर्स ने भी 7 और 9 अगस्त को इस तरह की पोस्ट डाली.

#मास्टरस्ट्रोक सुप्रीम कोर्ट ने जो पांच एकड़ जमीन दी थी, सुन्नी वक्फ़ बोर्ड ने लिया फैसला उस पर बनेगा #बाबरी_हास्पिटल जो #AIIMS के बराबर #मुफ्त सुविधा देगा..

Posted by Shaikh on Friday, August 7, 2020

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

The News Postmortem के सामने यह पोस्ट आने पर हमने इसकी पड़ताल शुरू की. खोजबीन में हमें ट्विटर पर ही Mlika-E-Awadh زہرا @zehraavadh का ट्वीट मिला. उन्होंने भी 7 अगस्त को इसी तरह की पोस्ट की. हालांकि, कमेंट में नादेरा अंजुम @Nadera_Anjum ने उनको इसकी सच्चाई भी बता दी.

बाद में खुद Mlika-E-Awadh के अकाउंट से 7 अगस्त को ट्वीट किया,
ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड एवं सुन्नी वक्फ बोर्ड ने लिया फैसला, न तो बाबरी अस्पताल बनाया जा रहा और न ही डॉक्टर कफील साहब को उस अस्पताल का सर्वेसर्वा। वक़्फ बोर्ड ने सोशल मीडिया तथा कुछ न्यूज़ वेबसाइट पर छपी ख़बरों को मनगढंत करार दिया। वक़्फ बोर्ड की ओर से आया ऑफिशियल बयान।

Syed Mohammed Abbas Naqvi ने भी 7 अगस्त को ही फेसबुक पर पोस्ट कर लिखा,

माफ़ करिएगा मैं गलत था

मैंने समझा था कि Sunni Waqf Board, सुप्रीम कोर्ट द्वारा दी गई #5_एकड़ ज़मीन पर देशहित और देशवासियों के हित में हॉस्पिटल बना कर अपने उच्च विचार को पेश करेंगे.

लेकिनयह खबर, झूठी निकली जिसकी सफ़ाई खुद Central Sunni Waqf Board ने यह नोटिस जारी कर के दी.

मतलब साफ़ है ये नहीं सुधरेंगे। नफ़रत करने और करवाने में.
साथ ही में उन्होंने सुन्नी वक्फ बोर्ड का लेटर भी पोस्ट किया.

😣#माफ़_करिएगा_मै_गलत_था😥#मैंने_समझा_था कि Sunni Waqf Board, ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा दी गई #5_एकड़ ज़मीन पर देश हित और…

Posted by Syed Mohammed Abbas Naqvi on Friday, August 7, 2020

सुन्नी वक्फ बोर्ड ने 7 अगस्त को एक लेटर जारी कर बयान दिया कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में पांच एकड़ जमीन दी गई है. इसको लेकर आज सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर एक फेक न्यूज सर्कुलेट हो रही है, इसमें दावा किया गया है कि बोर्ड ने यहां एक बाबरी अस्पताल बनाने का फैसला लिया है. साथ ही में डॉ. कफील खान को इस अस्पताल का डायरेक्टर बनाया जाएगा. यह खबर बिल्कुल फेक और लोगों को भ्रमित करने वाली है.

Sunni Wakf Board Letter
Sunni Wakf Board Letter

Indiatoday के मुताबिक, बोर्ड के सीईओ सैय्यद मोहम्मद शोएब ने इस वायरल पोस्ट के फर्जी होने की पुष्टि की. उनका कहना है कि इस संबंध में वह फेक पोस्ट वायरल करने वाले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे. बोर्ड ने अभी निर्माण के बारे में कोई फाइनल फैसला नहीं लिया है. अस्पताल, लाइब्रेरी और रिसर्च सेंटर के अभी केवल प्रस्ताव हैं. अभी फैसला लिया जाना बाकी है.

Postmortem रिपोर्ट: हमारी पड़ताल में यह पोस्ट फेक निकली. बोर्ड ने अभी तक कोई फैसला नहीं लिया है.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash