Home Viral सच्चाई Fact Check: थानाध्यक्ष ने दो बीघा जमीन पर बनवाया आलीशान फार्म हाउस

Fact Check: थानाध्यक्ष ने दो बीघा जमीन पर बनवाया आलीशान फार्म हाउस

फेसबुक पर हस्तिनापुर थानाध्यक्ष के बारे में पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है. दावा किया जा रहा है कि हस्तिनापुर के थानाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह के पास एक आलीशान फार्म हाउस है.

फेसबुक पर मेरठ के एक थानाध्यक्ष के बारे में पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है. इसमें दावा किया जा रहा है कि हस्तिनापुर के थानाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह के पास एक आलीशान फार्म हाउस है, जिसमें स्वीमिंग फूल, एसी कमरें और खूबसूरत लॉन है. वह सवा दो साल से हस्तिनापुर में तैनात हैं.

Hastinapur SO farm house

Meerut Report फेसबुक पेज पर 29 सितंबर को पांच फोटो पोस्ट करते हुए लिखा,
एक्सक्लूसिव: हस्तिनापुर के थानाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह का आलीशान फार्म हाउस, स्वीमिंग फूल… एसी कमरे और खूबसूरत लॉन, देखिए तस्वीरें…
सवा दो साल से एक ही थाने में जमे धर्मेंद्र सिंह ने न केवल अकूत संपत्ति अर्जित की है, वरन पद का भी दुरुपयोग किया है. थानाध्यक्ष का दो बीघे में आलाशीन फार्म हाउस और उसमें एशो आराम के लिए स्वीमिंग पूल है. इसके अलावा एक मॉडल कॉटेज बनी हुई है.

एक्सक्लूसिव: हस्तिनापुर के थानाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह का आलीशान फार्म हाउस, स्वीमिंग फूल… एसी कमरे और खूबसूरत लॉन,…

Posted by Meerut Report on Tuesday, September 29, 2020

Abhishek Singh ने 30 सितंबर को पोस्ट किया,
If you can then Share it…
हस्तिनापुर के थानाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह ने अपने कार्यकाल में ही एक आलीशान फार्म हाउस बना डाला, जिसमें ऐशो आराम की तमाम व्यवस्थाएं मौजूद हैं. कोतवाल साहब ने तकरीबन दो बीघे में फार्महाउस का निर्माण कराया है, जो घने जंगल में खेतों के बीच होता है. यहां थाने के एक होमगार्ड की भी इसकी देखरेख के लिए तैनाती लगी रहती है. इतना ही नहीं थानाध्‍यक्ष साहब ने स्‍वीमिंग पूल भी बनवाया है और एक मॉडेल कॉटेज भी है. साथ ही कमरों में एसी भी लगा हुआ है. धमेंद्र सिंह ने हर तरह की सुख-सुविधाओं से लैस इस आलीशान फार्म हाउस को बनवाया है.
20 जून 2018 को धमेंद्र सिंह को हस्‍तिनापुर का चार्ज दिया गया था, तब से वह यहीं पर रहे. इनका अब तक का सफर मेरठ जोन में ही बीता है. इस दौरान ये कई बार विवादों में रहे हैं. पहले पुलिस के आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने पर एक परिवार का सामूहिक रूप से जहर खाना, जिसमें दंपती की मौत हो गई थी. वहीं एक छात्र को स्कूल से ले जाकर कई दिनों तक अवैध रूप से हिरासत में रखकर टॉर्चर करना आदि भी शामिल है. टार्चर करने के मामले में तो छात्र के परिजनों ने थानाध्यक्ष पर तमाम आरोप लगाए.
एसपी देहात अविनाश पांडेय द्वारा भी जांच में थानाध्यक्ष को दोषी पाया था परंतु उच्चाधिकारियों एवं राजनैतिक रसूख के चलते कोई कार्रवाई नहीं हुई थी. एसएसपी ने एसपी क्राइम को दोबारा से जांच सौंप दी थी, जिसका आज तक पता नहीं. इसके बाद पुलिसिया कार्रवाई से क्षुब्ध होकर एक व्यक्ति ने हवालात में टायलेट क्लीनर पीकर आत्महत्या करने का प्रयास किया था, जिसे आनन फानन में मवाना के निजी चिकित्सालय में भर्ती कराया था.
थानाध्यक्ष द्वारा जो हस्तिनापुर पांडवान मे जिस भूमि पर फार्म हाउस बनाया गया है, उस भूमि पर आवासीय मे दर्ज कराए बिना ही फार्म हाउस बना कर खड़ा कर दिया गया. लेखपाल अरविंद कुमार ने बताया कि उक्त भूमि को कृषि भूमि मे दर्शाकर क्रय किया गया था, जिसकी कीमत सर्किल रेट के अनुसार लगभग साढ़े नौ लाख रुपये होती है. उन्होंने यह भी बताया कि सेंचुरी क्षेत्र में जो भूमि आती है, वह वन विभाग का अनापत्ति प्रमाण पत्र के बिना आवासीय भूमि में दर्ज नहीं हो सकती.

If you can then Share it……हस्तिनापुर के थानाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह ने अपने कार्यकाल में ही एक आलीशान फार्म हाउस बना…

Posted by Abhishek Singh on Tuesday, September 29, 2020

Vijay Singh Raghuvansi ने भी इस बारे में 30 सितंबर को लिखा,

#मेरठ- थानाध्यक्ष की आमदनी अठन्नी और खर्चा रुपइया, हस्तिनापुर के थानाध्यक्ष धर्मेंद्र का ऐशोआराम तो देखिए, साहब के पास आलीशान फार्म हाउस, स्विमिंग पूल सब है, SSP ने साहब को किया लाइन हाजिर, बिठाई जांच

#मेरठ- थानाध्यक्ष की आमदनी अठन्नी और खर्चा रुपइया, हस्तिनापुर के थानाध्यक्ष धर्मेंद्र का ऐशोआराम तो देखिए, साहब के पास आलीशान फार्म हाउस, स्विमिंग पूल सब है, SSP ने साहब को किया लाइन हाजिर, बिठाई जांच।

Posted by Vijay Singh Raghuvansi on Tuesday, September 29, 2020

आ​खिर एक थानाध्यक्ष के पास इतनी संपत्ति होना सामान्य बात नहीं है. The News Postmortem ने इसकी पड़ताल शुरू की. इसके लिए हमने गूगल पर खोजबीन की तो दैनिक जागरण और अमर उजाला के लिंक मिले. दैनिक जागरण के मुताबिक, फार्म हाउस दो बीघा जमीन पर बना है. यह आलीशान फार्म हाउस एसओ धर्मेंद्र सिंह के थानाक्षेत्र में ही है. इसको बनवाने के लिए उनके पास रकम कहां से आई है, एसएसपी अजय साहनी ने इसकी जांच सीओ मवाना को दी गई है. धर्मेंद्र सिंह सपा सरकार के समय से ही मेरठ में ही तैनात हैं. अब तक पांचों का प्रभार देख चुके हैं. शास्त्री नगर में रहने वाले धर्मेंद्र सिंह का कहना है कि यह फार्म हाउस उनकी पत्नी के नाम पर है, जिसे पुलिस विभाग से रिटायर उनके ससुर ने बनवाया है. फिलहाल एक अन्य मामले में एसओ को लाइन हाजिर कर दिया गया है.

Hastinapur SO Dharmendra Singh

अमर उजाला के अनुसार, धर्मेंद्र सिंह के आलीशान फार्म हाउस की रखवाली के लिए सिपाही और होमगार्ड की भी ड्यूटी लगाई गई है. फार्म हाउस में एक मॉडल कॉटेज भी है. कमरों में एसी की भी सुविधा है. फार्म हाउस बनाने के लिए हरे पेड़ काटे गए हैं. इसके चारों तरफ खेती की जमीन है. अमर उजाला ने इसकी फोटो गैलरी भी पब्लिश की है.

hastinapur so farm house

Postmortem रिपोर्ट: मेरठ के हस्तिनापुर थानाध्यक्ष पर दो बीघा जमीन पर आलीशान फार्म हाउस बनवाने का आरोप है. इसकी जांच एसएसपी ने सीओ मवाना को सौंप दी है. इसके अलावा एसओ पर किशोर को अवैध हिरासत में रखने का भी आरोप है. इसकी जांच एसपी क्राइम को दी गई है. इस मामले में एसओ को लाइन हाजिर भी किया गया है.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : सच

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash