Home Viral सच्चाई #FactCheck यह केरल की युवती नहीं बल्कि ढाका की सुमैया है, लव...

#FactCheck यह केरल की युवती नहीं बल्कि ढाका की सुमैया है, लव जिहाद का आरोप भी झूठा है

फेसबुक पर एक पोस्ट काफी तेज से वायरल हो रही है. दावा किया गया है कि केरल में युवती को लव जिहाद का शिकार बनाकर टॉर्चर किया गया है. हमारी पड़ताल में ये फोटो बांग्लादेश की निकली. मामला दहेज उत्पीड़न से जुड़ा हुआ है.

एक-दो दिन से फेसबुक पर एक पोस्ट काफी वायरल हो रही है. इसमें दावा किया जा रहा है कि केरल में एक लड़की लव जिहाद का शिकार हुई है. साथ में तीन फोटो भी पोस्ट की गई हैं. इसमें एक फोटो दंपती की है, जबकि दो तस्वीरों में युवती के साथ की गई मारपीट के निशान दिखाए गए हैं. पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि यह मामला केरल का है. The News Postmortem की टीम ने इसकी पड़ताल की तो कहानी कुछ और निकली.

Pratik Patel Aarav Patel ने R.J Kartik Fan Club फेसबुक पेज पर पोस्ट किया,
केरल में फिर एक लड़की #लव_जिहाद की शिकार
हर लड़की शुरू में कहती है मेरा अब्दुल दूसरे मुसलमानों जैसा नहीं है, बहुत नेक है लेकिन जब आंखें खुलती हैं तब लड़कियों के सामने तीन अंजाम होते हैं या तो सूटकेस में दफन मिलती है या कोठे पर बेच दी जाती है या बच्चा पैदा करने वाली मशीन बन जाती है.
पोस्ट में तीन फोटो भी है. इसको 188 लोगों ने शेयर किया है.

पोस्ट देखने के लिए यहां और आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

Sumit Gupta ने भी इस तरह की फोटो पोस्ट करते हुए लिखा,
मेरा अब्दुल ऐसा नहीं.
इस पोस्ट को भी 867 से ज्यादा लोगों ने शेयर किया है.

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

Pushpendra Kulshreshth Supporters ने इसी नाम से बने पेज पर भी इस तरह की फोटो शेयर की है. इस पर लिखा है,
केरल के एक चैनल ने आजकल मुस्लिमों से लव जिहाद में फंस कर निकाह कर चुकी हिंदू लड़कियों के बारे में सीरीज प्रसारित करना शुरू किया है. यह सीरीज मलयालम में है लेकिन सच में यह सीरीज बेहद आंखें खोलने वाली है.
हर लड़की शुरू में कहती है मेरा अब्दुल या मेरा ताहिर या मेरा फलाना दूसरे मुसलमानों जैसा नहीं है. वह बहुत नेक और अच्छा है, लेकिन जब आंखें खुलती हैं तब लड़कियों के सामने तीन अंजाम होते हैं या तो किसी सूटकेस में या जमीन के नीचे दफन मिलती है या किसी कोठे पर बेच दी जाती हैं या फिर एक बच्चा पैदा करने वाली मशीन बन जाती हैं.
इस पोस्ट को भी 1100 से ज्यादा लोगों ने शेयर किया है.

केरल के एक चैनल ने आजकल मुस्लिमों से लव जिहाद में फंस कर निकाह कर चुकी हिंदू लड़कियों के बारे में सीरीज प्रसारित करना…

Posted by Pushpendra Kulshreshth Supporters on Tuesday, July 28, 2020

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

तेजी से वायरल हो रही इस पोस्ट की हमने खोजबीन शुरू की. गूगल पर रिवर्स इमेज से सर्च करने पर हमें इससे मिलती जुलती कोई फोटो तो नहीं मिली, हां एक लिंक जरूर मिला. हमने उस छोटी सी कड़ी के सहारे इसकी सच्चाई जानने की कोशिश की.

गूगल पर हमें Dhaka Tribune की खबर मिली. बांग्ला भाषा की खबर को अंग्रेजी में ट्रांसलेट करने पर पता चला कि यह फोटो तो बांग्लादेश की है. मामला भी लव जिहाद का नहीं है. Dhaka Tribune के मुताबिक, International Day Against Torture वाले दिन ही ढाका में रहने वाली एक हाउसवाइफ ने फेसबुक पर दिल दहलाने वाली पोस्ट डाली थी. इसमें उसने बताया था कि उसके पति, ससुर और सांस उसे दहेज के लिए किस तरह प्रताड़ित करते हैं.

Facebook viral image keral love jihad
Source: Dhaka Tribune

गूगल पर ही हमें Dhaka Tribune में 27 जून को इंग्लिश में छपी खबर में हमें इससे संबंधित दूसरी फोटो भी मिल गई. महिला का नाम सुमैया हसन है. उसने फेसबुक पर अपनी छह फोटो पोस्ट की थी. इसमें उसने शरीर के जख्मों को दिखाया था. यह पोस्ट काफी वायरल हुई थी. सुमैया ने पहले भी पुलिस से शिकायत की थी लेकिन ससुरालियों ने उससे मारपीट जारी रखी. उसके पति का नाम जाहिद हसन है.

खबर के मुताबिक, उसका देवर उसके पति को उसे मारने के लिए उकसाता है. पति और देवर दोनों नशेड़ी हैं. उसके एक छोटा बच्चा भी है. उसने सोशल मीडिया पर लोगों से मदद मांगी थी. ढाका के शाहबाग पुलिस अधिकारी अब्दुल हसन का कहना है कि मामला सामने आने के बाद उन्होंने आरोपी पति को हिरासत में लिया था. महिला की टॉर्चर वाली फोटो पुरानी हैं. महिला की तरफ से पुलिस में अभी कोई शिकायत नहीं की गई है.

Facebook viral image of keral love jihad
Source: Dhaka Tribune

Postmortem रिपोर्ट: यह फोटो केरल में किसी दंपती की नहीं है. यह बांग्लादेश की राजधानी ढाका का मामला है. साथ ही महिला लव जिहाद का नहीं बल्कि दहेज प्रताड़ना का शिकार हुई है. लव जिहाद का आरोप लगाने वाली यह पोस्ट पूरी तरह से फर्जी है. इसे शेयर न करें.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK :

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash