Home Political सच Fact-Check: सोशल मीडिया पर वायरल विरोध प्रदर्शन की यह पुरानी तस्वीर तमिलनाडु...

Fact-Check: सोशल मीडिया पर वायरल विरोध प्रदर्शन की यह पुरानी तस्वीर तमिलनाडु की नहीं बल्कि पश्चिम बंगाल की है।

Fact-Check (द न्यूज़ पोस्टमार्टम): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क्वाड समिट की बैठक समाप्त होने के बाद तमिलनाडु गए हैं। इस बीच सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है। जिसमें सड़क पर ‘गो बैक मोदी’ लिखा है और लोग विरोध प्रदर्शन करते देखें जा सकतें हैं। वायरल तस्वीर को लेकर सोशल मीडिया यूज़र दावा कर रहे हैं कि यह तस्वीर तमिलनाडु की है। उनका कहना है, हाल ही में जब प्रधानमंत्री मोदी चेन्नई गए थे तब इनके विरोध में लोगों ने ‘गो बैक मोदी’ के नारे लगाए।

सोशल मीडिया पर लोगों की प्रतिक्रियाएं : 
वायरल तस्वीर को शेयर करते हुए फेसबुक यूजर अजमल ने लिखा है – “तमिलनाडु आपसे और आपकी विचारधारा से नफ़रत करता है। टीएन आपसे और आपकी विचारधारा से नफ़रत करता है।”
एक और यूजर पाशुपति विश्वनाथन ने भी ऐसा दावा किया है। साथ ही वायरल दावे को ट्विटर पर भी देखा जा सकता है। 

पड़ताल : द न्यूज़ पोस्टमार्टम ने अपनी पड़ताल शुरू की। हमने वायरल इमेज को रिवर्स इमेज सर्च पर डाला। इस दौरान हमें कई परिणाम मिलें। जनवरी 2020 को टाइम्स ऑफ इंडिया में प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली जिसमें वायरल तस्वीर का इस्तेमाल किया गया है। हमने वायरल तस्वीर का इसके साथ मिलान किया तो इसमें ज्यादातर समानताएं दिखाई दीं।

रिपोर्ट के मुताबिक मोदी रविवार को सुबह 10.10 बजे बेलूर मठ से रवाना हुए, हुगली को पार कर बाबूघाट पहुंचे और कोलकाता बंदरगाह के 150 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में उद्घाटन समारोह के लिए रात करीब 11 बजे नेताजी इंडोर स्टेडियम पहुंचे। जब वह स्टेडियम में प्रवेश कर रहे थे, तो प्रदर्शनकारियों के एक समूह ने “मोदी वापस जाओ” के नारे लगाए और उनके काफिले के सामने काले झंडे लहराए।सीएए और एनआरसी के विरोध का केंद्र रविवार को एस्प्लेनेड से पार्क सर्कस में स्थानांतरित हो गया था। भले ही प्रदर्शनकारी चले गए लेकिन उन्होंने शहर के सबसे लोकप्रिय चौक पर स्थायी स्ट्रीट पेंट और सफेद सीमेंट के साथ चित्रित कई संदेश पीछे छोड़ दिए।

इंडियन एक्सप्रेस में प्रकाशित रिपोर्ट में भी यह जानकारी दी गई है। जिसकी हेडलाइन है – “कोलकाता में युवाओं ने लगाए ‘मोदी वापस जाओ’ के नारे”
इस रिपोर्ट में वायरल हो रही तस्वीर का भी इस्तेमाल किया गया है। तस्वीर का कैप्शन है –कोलकाता के एस्प्लेनेड में प्रदर्शनकारियों ने प्रदर्शन किया। (एक्सप्रेस फोटो: शशि घोष)रिपोर्ट के मुताबिक मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बंगाल यात्रा के दौरान दोनों में राजनीतिक टकराव देखने को मिला। पूरे दिन, राज्य की राजधानी और उसके पड़ोसी क्षेत्रों में भाजपा के नेतृत्व वाले केंद्र के नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) और प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी राष्ट्र रजिस्टर ( NRC ) के लिए पीएम के खिलाफ कई विरोध प्रदर्शन हुए । शहर के बीचोबीच एस्प्लेनेड क्षेत्र में यातायात ठप हो गया, जहां प्रदर्शनकारियों ने काले झंडे और गुब्बारे लहराए और ‘मोदी वापस जाओ’ के नारे लगाए। यहां तक कि जमीयत उलमा-ए-हिंद की बंगाल इकाई ने भी काले झंडों से विरोध किया।

पोस्टमार्टम : द न्यूज़ पोस्टमार्टम ने अपनी पड़ताल में वायरल दावे को झूठा साबित किया है। विरोध प्रदर्शन की यह तस्वीर तमिलनाडु की नहीं बल्कि पश्चिम बंगाल की है।

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : झूठ

Pratayksh Mishrahttps://thenewspostmortem.com/
The Journalist keep vision on viral claims. You can contact here. Email - prataykshmishra@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Fact-Check: क्या मीडिया से बात करते हुए नशे में धुत थे पूर्व शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे?

The News Postmortem :इन दिनों महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल मची हुई है। इसके मद्देनजर सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो...

Fact-Check: क्या वायरल वीडियो में शिवलिंग पर बीयर चढ़ा रहे युवक मुस्लिम समाज से हैं?

The News Postmortem: सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें दो युवक एक नदी किनारे शिवलिंग पर बीयर चढ़ाते हुए...

Fact-Check : क्या महाराष्ट्र में चल रहे राजनीतिक संकट पर बोलते हुए संजय राऊत हुए भावुक ?

The News Postmortem : शिवसेना नेता संजय राउत का एक वीडियो सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ वायरल हो रहा है कि...

Fact-Check: क्या वीडियो में नजर आ रहे थाईलैंड के बौद्ध भिक्षु लुआंग फो याई की उम्र 170 साल है?

The News Postmortem : सोशल मीडिया पर एक बुजुर्ग और बिस्तर पर पड़े साधु को आशीर्वाद देते हुए एक वीडियो वायरल हो रहा...

Recent Comments

vibhash