Home Viral सच्चाई #FactCheck यूपी की नहीं पकिस्तान की है यह तस्वीर, स्कूल में कीचड़...

#FactCheck यूपी की नहीं पकिस्तान की है यह तस्वीर, स्कूल में कीचड़ में बैठे हैं बच्चे

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल की जा रही है. जिसमें कीचड़ पर कुछ स्कूल बच्चे बैठे हैं. इस तस्वीर से सरकार पर निशाना साधा जा रहा है. पड़ताल में ये तस्वीर 2015 में पकिस्तान की निकली.

सरकारी स्कूलों की बदहाली किसी से छिपी नहीं है. वहीं इन दिनों सोशल मीडिया पर एक तस्वीर घूम रही है. इसमें स्कूल ड्रेस में बच्चे कीचड़ और गंदे पानी में बैठे हैं. इसमें लोग उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर गंभीर आरोप लगा रहे हैं. इस तस्वीर को उत्तर प्रदेश का बताकर शेयर किया जा रहा है. जब यह पोस्ट हमारे पास पहुंची तो हमने इसकी पड़ताल शुरू की.

Source: Twitter


इस तस्वीर को ट्विटर यूजर @shaista04444 ने अपने एकाउंट पर इसी 20 जुलाई को पोस्ट किया और इसके साथ एक मैसेज भी लिखा,
दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति वाले देश के स्कूलों की दशा देखें, क्या 135 करोड़ लोगो…??? आपमें इस सच्चाई को साझा करने का साहस है… दो—दो कौड़ी के नेता सौ—सौ करोड़ में बिकते हैं….
और इनको जितवाने वाली जनता को मिलता है 5 Kg गेहूं और 1 Kg चना…
वो भी लाइन में लग के

The News Postmortem ने इस पोस्ट की पड़ताल शुरू की. पहले हमें शक हुआ क्योंकि कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में हुए लॉकडाउन के कारण अभी स्कूल-कॉलेज बंद हैं. ऐसे में हाल-फिलहाल की यह तस्वीर नहीं हो सकती. हमने गूगल रिवर्स इमेज पर इसे सर्च किया तो कोई जानकारी नहीं मिली. इसके बाद हमने इस खबर से सम्बन्धित कीवर्ड्स सर्च किये तो हमें ट्विटर पर ही एक पाकिस्तानी यूजर रेहान जेब खान का एक ट्वीट मिला. जो 20 नवम्बर 2019 का था. यह ट्वीट उन्होंने World Childrens Day पर दो तस्वीरों के साथ पोस्ट किया था. एक में बच्चे किताबें पढ़ रहे थे तो दूसरे में ये कीचड़ की तस्वीर. #TribelChildren उन्होंने सभी बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए कदम उठाने की अपील की थी. लिहाजा यह तय हो गया कि इस तस्वीर का भारत से कोई ताल्लुक नहीं है.

इसके बाद हमने गूगल पर ही पकिस्तान और इस तस्वीर से सम्बन्धित कीवर्ड्स सर्च किये तो हमें यह जानकारी मिली कि यह स्कूल पकिस्तान के पंजाब प्रांत का है, जो 2015 का है. सियासत नामक वेबसाइट पर यह तस्वीर अब भी मौजूद है.




यही नहीं इससे पहले Alt News और Factcrescendo भी इस खबर पर अपनी पड़ताल कर चुके हैं और खबर को फेक बता चुके हैं.

Postmortem Report: हमारी पड़ताल में यह तस्वीर पूरी तरह गलत साबित हुई. यह तस्वीर यूपी की नहीं बल्कि पाकिस्तान की है और वो भी 2015 की. इसे हाल का बताकर वायरल किया जा रहा है. यह पोस्ट पूरी तरह फेक है.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK :

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash