Home Viral सच्चाई Fact Check: किसान आन्दोलन में शामिल मुस्लिम महिलाओं का फोटो गलत दावे...

Fact Check: किसान आन्दोलन में शामिल मुस्लिम महिलाओं का फोटो गलत दावे के साथ वायरल

एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है जिसमें किसान आन्दोलन में बुर्का पहने मुस्लिम महिलाओं का समूह है,इन्हें फर्जी किसान बताते हुए खूब शेयर किया जा रहा है।

केंद्र सरकार द्वारा पारिक कृषि बिल के विरोध में बीते साल 26 नवम्बर से पंजाब और हरियाणा के लाखों किसान सिंधु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे हैं और सरकार से इस बिल को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। इस दौरान सरकार और किसानों के बीच 9 दौर की वार्ता हो चुकी है, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला है। वहीँ इस बीच सोशल मीडिया पर किसान आन्दोलन को लेकर कई तरह पोस्ट वायरल हो रहीं हैं, जिनमें आन्दोलन पर सवाल उठाए जा रहे हैं। इसी के तहत ही एक पोस्ट तेजी से वायरल हो रही है जिसमें किसान आन्दोलन में बुर्का पहने मुस्लिम महिलाओं का समूह है,इन्हें फर्जी किसान बताते हुए खूब शेयर किया जा रहा है।

The News Postmortem ने वायरल हो रही तस्वीर की पड़ताल शुरू की। ट्विटर पर ये तस्वीर हमें टिंकू नामक यूजर के प्रोफाइल पर मिली। इसे 15 जनवरी को शेयर किया गया था, जिसमें कैप्शन भी था…

ये वहीं हैं…जो कागज नहीं दिखाएंगे

#Khalistan #khalistani #FarmersProtestHijacked #Ghazipur #border #FarmersProtest #किसान_आंदोलन #Tikait

इसी कैप्शन के साथ ये पोस्ट फेसबुक पर भी खूब शेयर की जा रही है। ये पोस्ट 15 जनवरी को काजल कुमारी नामक अकाउंट से इन्हीं कैप्शन के साथ शेयर की गयी।

ये वहीं हैं…जो कागज नहीं दिखाएंगे
#Khalistan #khalistani #FarmersProtestHijacked #Ghazipur #border #FarmersProtest #किसान_आंदोलन #Tikait

हमने वायरल हो रही तस्वीर को जब रिवर्स इमेज से सर्च किया तो ये तस्वीर हमें भारतीय किसान एकता यूनियन एकता उग्राहन के फेसबुक पेज पर मिला। तस्वीर को 14 जनवरी को पोस्ट किया गया था। तस्वीर के साथ पंजाबी भाषा में कैप्शन भी था जिसका अनुवाद है ‘किसानों के समर्थन में मुस्लिम समुदाय सामने आया। मलेरकोटला (पंजाब) से मुस्लिम महिलाओं का एक समूह पकोड़ा चौक मंच पर पहुंचा उन्होंने क्रांतिकारी गीत गाए और संबोधित भी किया’।

इस तस्वीर को 14 जनवरी के दिन गाजीपुर बॉर्डर पर लिया गया था। जानकारी के मुताबिक पंजाब के मलेरकोटला की महिलाओं का समूह गाजीपुर में चल रहे किसान प्रदर्शन को समर्थन देने आया था। इस दिन की और भी फोटो संगठन के पेज पर अभी भी मौजूद हैं और जानकारी भी मुस्लिम महिलाओं का समूह मलेरकोटला से आया था। यानी वायरल तस्वीर में जो दावा किया जा रहा है वो गलत है।

Postmortem रिपोर्ट:- पड़ताल में वायरल फोटो का दावा फर्जी साबित हुआ, इससे पहले भी किसान आन्दोलन को लेकर कई फर्जी खबरें और पोस्ट वायरल होचुकीं हैं। जिसका पड़ताल हमने की थी। फ़िलहाल ये पोस्ट पूरी तरह फर्जी है।

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : झूठ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Fact-Check: क्या नूपुर शर्मा को फटकार लगाने वाले जस्टिस जे बी पारदीवाला 80 के दशक में कांग्रेस के विधायक रहें हैं?

The News Postmortem : बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट ने 1 जुलाई को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि...

Fact-Check: क्या उदयपुर हत्याकांड के आरोपियों को राहुल गांधी ने बच्चे कहा ?

The News Postmortem: उदयपुर हत्याकांड से पूरा देश सन्न है।इस बीच कांग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी का इंटरव्यू सोशल मीडिया पर वायरल...

Fact-Check: क्या मीडिया से बात करते हुए नशे में धुत थे पूर्व शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे?

The News Postmortem :इन दिनों महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल मची हुई है। इसके मद्देनजर सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो...

Fact-Check: क्या वायरल वीडियो में शिवलिंग पर बीयर चढ़ा रहे युवक मुस्लिम समाज से हैं?

The News Postmortem: सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें दो युवक एक नदी किनारे शिवलिंग पर बीयर चढ़ाते हुए...

Recent Comments

vibhash