Home Viral सच्चाई Fact Check: प्रयागराज में अस्पताल ने ऑपरेशन के बाद बिना टांके लगाए...

Fact Check: प्रयागराज में अस्पताल ने ऑपरेशन के बाद बिना टांके लगाए ही बच्ची को अस्पताल से निकाला, दर्दनाक मौत

वायरल पोस्ट में दावा किया गया कि प्रयागराज में तीन साल की बच्ची खुशी को पेट दर्द की वजह से यूनाइटेड मेडीसिटी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया. अस्पताल की तरफ से 5 लाख रुपये की डिमांड की गई. जब परिवार रुपये नहीं दे सका तो अस्पताल ने बिना टांके लगाए ही बच्ची को निकाल दिया.

निजी अस्पतालों पर लगाम लगाने की सरकार भले ही कितनी भी कोशिश कर ले लेकिन ऐसा होना संभव नहीं दिखता है. इसकी वजह यह है कि इन्हीं अस्पतालों में मंत्री और विधायक खुद इलाज कराने जाते हैं. ऐसे ही एक बड़े अस्ताल पर काफी गंभीर आरोप लगे हैं. सोशल मीडिया पर 5 मार्च को एक पोस्ट काफी वायरल हुई. इसमें एक मासूम बच्ची की तीन फोटो पोसट की गई हैं. फोटो में दिख रहा है कि बच्ची के पेट पर पट्टी बंधी है. साथ में दावा किया गया कि उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में तीन साल की बच्ची खुशी को पेट दर्द की वजह से यूनाइटेड मेडीसिटी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। वहां डॉक्टरों ने उसका ऑपरेशन किया. आॅपरेशन के लिए परिवार ने खेत बेचकर 2 लाख रुपये दिए लेकिन अस्पताल की तरफ से 5 लाख रुपये की डिमांड की गई. जब परिवार रुपये नहीं दे सका तो अस्पताल ने बिना टांके लगाए ही बच्ची को निकाल दिया. परिवार उसे फटे पेट के साथ लेकर इलाज के लिए घूमता रहा. आखिर में दर्द से तड़ते हुए बच्ची ने दम तोड़ दिया.

इस पोस्ट को ट्विटर पर अभिनव पांडे और शुभम शील ने ट्वीट किया है. पोस्ट को हजारों लोगों ने रिट्वीट कर अपना गुस्सा जाहिर किया और मुख्यमंत्री योगी आदित्याथ से अस्पातल और उसके डाॅक्टरों पर कार्रवाई की मांग की. The News Postmortem ने भी इस पोस्ट की पड़ताल के लिए छानबीन की.

हमने गूगल पर सर्च किया तो अमर उजाला की खबर लिंक मिला. इसके अनुसार, बच्ची का नाम खुशी है. उसके पिता मुकेश मिश्र करेली के करेंहदा के रहने वाले हैं. पेट दर्द के बाद खुशी को 15 फरवरी को चायल स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. दो दिन डाॅक्टरों ने उसका आॅपरेशन किया था. मुकेश मिश्र ने आरोप लगाया कि डाॅक्टरों ने ठीक से आॅपरेशन नहीं किया. पांच दिन बाद खुश का दोबारा आॅपरेशन हुआ. आरोप है कि डाॅक्टरों ने आॅपरेशन के बाद टांके भी नहीं लगाए और बच्ची को दूसरे अस्पताल में ले जाने को कहा. बच्ची को दूसरे अस्पताल ले जाया गया लेकिन उन्होंने उसे भर्ती करने से इंकार कर दिया. हालत बिगड़ने पर वह बच्ची को वापस उसी निजी अस्पताल ले गए, जहां उसका आॅपरेयान हुआ था. अस्पताल के गेट पर उनको रोक दिया गया और अंदर नहीं आने दिया गया. इसके बाद वे दो घंटे तक बच्ची को गोद में लेकर भटकते रहे. आखिर में मासूम ने दर्द से तड़पते हुए दम तोड़ दिया. इस पर बच्ची के परिजनों ने अस्पताल के बाहर हंगामा किया. पुलिस ने उन्हें शांत कराया. सीओ चायल का कहना है कि उनको तहरीर नहीं दी गई है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई होगी.

Prayagraj United Medicity Hospital HIndi NEws

प्रयागराज के डीएम भानुवंद्र गोस्वामी ने इस मामले की जांच के लिए दो सदस्यीय टभ्म गठित की है. इसमें अपर जिलाधिकारी (नगर) और सीएमओ को शालि किया गया है. जांच में लापरवाही पाए जाने पर अस्पताल के खिलाफ कार्रवाई की बात कही गई है. इस संबंध में प्रशागराज डीएम के ट्विटर अकाउंट पर एक लेटर भी पोस्ट किया गया है.

Postmortem रिपोर्टः प्रयागराज के यूनाइटेड मेडीसिटी हॉस्पिटल पर रुपये नहीं मिलने पर बच्ची के इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप लगा है. अस्पातल पर बहुत ही गंभीर आरोप लगे हैं कि उसने बच्ची को बिना टांके लगाए ही फटे पेट के साथ बाहर निकाल दिया, जिससे बच्ची की मौत हो गई.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : सच

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Fact Check: क्या बीमार मां का इलाज कराने आए फौजी लक्ष्मण को पुलिसवालों ने बुरी तरह पीटा? जानिए क्या है सच

सोशल मीडिया पर दो वीडियो और कुछ फोटो तेजी से वायरल हो रहे हैं. इसमें एक में वीडियो में टाइटल Justice for...

Fact Check: इस फोटो में दिख रही बुजुर्ग महिला Akshay Kumar की मां नही हैं, जानिए कौन हैं ये

बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की मां अरुणा भाटिया का 8 सितंबर की सुबह निधन हो गया. वह मुंबई स्थित हीरानंदानी अस्पताल...

Recent Comments

vibhash