Home Viral सच्चाई Fact Check: कांग्रेस नेता ने फर्जी पोस्ट से किया पुलिस को बदनाम,...

Fact Check: कांग्रेस नेता ने फर्जी पोस्ट से किया पुलिस को बदनाम, दिल्ली हिंसा से नहीं है इसका संबंध

कई नेता फर्जी पोस्ट करके यह साबित करने में भी लगे हैं कि पुलिस ने किसानों पर बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज किया. उनके अलावा किसानों के कई समर्थक इन पोस्ट को शेयर कर रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस ने किसानों को बुरी तरह से पीटा है.

26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस वाले दिन दिल्ली में हुई हिंसा ने देश को शर्मसार कर दिया है. इसके बावजूद कुछ दल और नेता इसको सही साबित करने में लगे हुए हैं. इस कारण कई नेता फर्जी पोस्ट करके यह साबित करने में भी लगे हैं कि पुलिस ने किसानों पर बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज किया. उनके अलावा किसानों के कई समर्थक इन पोस्ट को शेयर कर रहे हैं. दावा किया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस ने किसानों को बुरी तरह से पीटा है.

Happily_Leftist@nikhzofficial नाम से बने ट्विटर अकाउंट से 28 जनवरी को ट्वीट किया गया,
Every hit on farmers should be answered!! These enroute to revolution….. Inqilab Zindabaad

#westandwithfarmers#BoycottBJP

यानी
किसानों पर बरसी हर लाठी का जवाब देना होगा…यह क्रांति की तरफ रास्ता बनाएगा…इंकलाब जिंदाबाद
इसके साथ में दो फोटो भी पोस्ट की गईं. इसमें एक सिख की पीठ पर लाठियों के निशान दिख रहे हैं.

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भी इस तरह की फोटो पोस्ट करते हुए लिखा,
अमित शाही जी,
से लाठियां इस निहत्थे अन्नदाता की कमर पर नहीं, देश के लोकतंत्र की आत्मा पर पड़ी हैं.
सत्ता का यह अहंकार ही जनविरोधी मोदी सरकार व भाजपा के पतन का कारण बनेगा.
याद रखना मेरी बात
हालांकि बाद में इस ट्वीट को डिलीट कर दिया गया.

randeep singh surjewala tweet on delhi violence

राजू शेट्टी् नाम से बने फेसबुक पेज से भी इस पोस्ट को शेयर करके डिल्ीट कर दिया गया.

Raju Shetti Tweet on delhi violence

इन पोस्ट के कमेंट पढ़ने से इनके फर्जी होने का पता चल गया. दिल्ली की हरिनगर विधानसभा से विधायक तेजेंदर पाल सिंह बग्गा ने रणदीप सिंह सुरजेवाला के ट्वीट का स्क्रीनशाॅट शेयर करते हुए इसकी असलियत भी बताई. उन्होंने एक और स्क्रीनशाॅट शेयर किया, जो Sikh Sangarsh #FreeJaggiNow@SikhSangarsh के 17 जून 2019 के ट्वीट का है. इसके अनुसार, मामला दिल्ली के मुखर्जी नगर में सिख आॅटो ड्राइवर को पुलिस द्वारा बुरी तरह पीटने का है.

इसकी और पड़ताल के लिए हमने ट्विटर पर एडवांस सर्च से ट्वीट की छानबीन की. इससे हमें पता चला कि Sikh Sangarsh #FreeJaggiNow@SikhSangarsh अकाउंट से 17 जून 2019 को यह ट्वीट किया गया है. इसमें 3 फोटो लगाई गई है. साथ में लिखा है,
A Sikh auto driver and his son were brutally beaten outside Mukherjee Nagar police station in one of the most brutal beatings.

मतलब पुलिस ने मुखर्जी पुलिस स्टेशन के बाहर सिख आॅटो ड्राइवर और उसके बेटे को पुलिस ने बुरी तरह पीटा है.

इसकी और छानबीन के लिए हमने गूगल पर सर्च किया तो कुछ खबरों के लिंक मिले. इंडिया टुडे की खबर के अनुसार, घटना 16 जून 2019 की है. इसका वीडियो भी वायरल हुआ था. इसमें दिख रहा है कि सिख ड्राइवर पुलिस वाले को तलवार दिखा डराता है. इसके बाद वह पलिस अधिकारी पर तलवार से हमला भी करता है. सिख ड्राइवर का टेंपो एक पुलिसवाले के पैर में लग गया था. इसके बाद विवाद बढ़ा. सिख ड्राइवर द्वारा तलवार निकालने के बाद पुलिसवालों ने उसे डंडों से मारा था. वीडियो वायरल होने के बाद कई सिख विधायकों नेे सिख ड्राइवर के समर्थन में प्रदर्शन किया था.

Delhi Violence Viral Image Reality
Source: India Today

टाइम्स आॅफ इंडिया के मुताबिक, मामले के बाद कई लोगों ने पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन किया था. इसके बाद दिल्ली पुलिस के तीन कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया था.

Postmortem रिपोर्टः इससे जाहिर होता है कि सिख की इस फोटो का किसान आंदोलन से कोई संबंध नहीं है. यह जून 2019 की फोटो है. उस समय भी सिख ड्राइवर ने पहले कृपाण से पुलिस अधिकारी पर हमला किया था. इसके बावजूद तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया था.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : झूठ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Fact Check: क्या बीमार मां का इलाज कराने आए फौजी लक्ष्मण को पुलिसवालों ने बुरी तरह पीटा? जानिए क्या है सच

सोशल मीडिया पर दो वीडियो और कुछ फोटो तेजी से वायरल हो रहे हैं. इसमें एक में वीडियो में टाइटल Justice for...

Fact Check: इस फोटो में दिख रही बुजुर्ग महिला Akshay Kumar की मां नही हैं, जानिए कौन हैं ये

बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की मां अरुणा भाटिया का 8 सितंबर की सुबह निधन हो गया. वह मुंबई स्थित हीरानंदानी अस्पताल...

Recent Comments

vibhash