Home History हकीकत #FactCheck पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने नहीं रुकवाया था सुभाष चन्द्र...

#FactCheck पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने नहीं रुकवाया था सुभाष चन्द्र बोस के फोटो वाला नोट

व्हाट्सऐप समेत तमाम सोशल मीडिया पर ऐसी पोस्ट वायरल हो रही है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने सुभाष चंद्र बोस की तस्वीर वाले नोट बंद करा दिए गए थे. इस पोस्ट शेयर करने की भी अपील की गई है. The News Postmortem ने इसकी पड़ताल की.

आजाद भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू बीते कुछ समय से लगातार चर्चा में हैं. जी हां, सत्तारूढ़ दल लगातार उनकी नीतियों को लेकर उन्हें घेरने में लगे हुए हैं. वहीं इस बीच स्वतंत्रता सेनानी और आजाद हिन्द फौज के संस्थापक नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को नजरअंदाज करने का आरोप भी उन पर मढ़ा जा रहा है. कुछ इसी अंदाज में इन दिनों सोशल मीडिया पर सुभाष चन्द्र बोस की वर्दी में फोटो वाली पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. इसके साथ यह अपील की जा रही है कि इस नोट को नेहरू ने बंद करवा दिया था, ताकि भारतीय लोग सुभाष चन्द्र बोस को भूल जाएं. इसे इतना शेयर करने की अपील की गई है कि यह नोट वापस शुरू हो जाए.

The News Postmortedm ने इस वायरल हो रही तस्वीर को खंगाला तो कई बातें निकलकर सामने आईं. हमने इस वायरल हो रही तस्वीर को गूगल के टूल रिवर्स इमेज में डाला, जहां से जानकारी मिली कि 10 महीने पहले श्रवण कुमार नामक यूजर ने इसे अपने एकाउंट पर शेयर किया था. एकाउंट के प्रोफाइल में चेक करने पर श्रवण कुमार भाजपा समर्थक नजर आए, जिस पर हमें संशय हुआ कि यह दावा संदिग्ध है.

Fake Image Viral of Subhash Chandra Bosh Note


इसके बाद हमने इस तस्वीर के सम्बन्ध पर keywords सर्च किए, जिसमें हमें The Lallantop और Alt News के लिंक मिले, जिसमें इसी तरह की अपील और फोटो कई और नोटों के साथ की गयी थी. उसमें 10 के बजाय पांच के नोट के बारे में जिक्र था और इन नोटों को बंद करने के लिए नेहरू को ही जिम्मेदार ठहराया था. इन दोनों ही वेबसाइट ने दावों को खारिज किया.

हम इतने से संतुष्ट नहीं थे. हमने भारतीय रिजर्व बैंक के museum में इस नोट को तलाशा. वहां भी किसी ऐसे नोट का जिक्र नहीं है. उसमें 1949 से हाल के 23 सितम्बर 2017 तक नई करेंसी के विभिन्न मूल्य के नोट शामिल हैं. लिहाजा आजाद भारत में इस तरह का कोई नोट प्रचलन में नहीं आया. इसके बावजूद हमने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को ट्वीट कर इस पर अधिकारिक जानकारी मांगी है, जो अभी तक नहीं मिली है, जिसे मिलते ही इस खबर में अपडेट कर दिया जाएगा.

अब बात करते हैं कि ऐसे नोट की बात क्यों आई. इसके पीछे तर्क यही है कि सुभाष चन्द्र बोस ने देश को आजाद कराने के लिए आजाद हिन्द फौज का गठन 1942 में किया था. इसके संचालन के लिए उन्हें काफी धन भी चंदे में मिला था. उन्होंने 1944 में आजाद हिन्द बैंक का गठन भी किया था. इस बैंक की स्थापना बर्मा की राजधानी रंगून यानि म्यामार में हुई थी. आजाद हिन्द बैंक ने भी 5 रुपए से लेकर एक लाख तक के नोट छापे थे, लेकिन 1947 में देश के आजाद होने और फिर भारतीय रिजर्व बैंक के अस्तित्व में आने के बाद इस तरह के नोटों का कोई औचित्य नहीं था. इसलिए यह कहना या यह दावा करना कि सुभाष चन्द्र बोस की तस्वीर वाले नोट तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने बंद करवाए सरासर गलत है.पोस्टमार्टम रिपोर्ट: पूर्व प्रधानमंत्री पर तस्वीर के आरोप सरासर गलत हैं.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट: पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू पर सुभाष चंद्र बोस की तस्वीर वाले नोट रोकने का आरोप गलत है.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash