Home Viral सच्चाई Fact Check: New York Post ने मौलवी की हत्या की खबर में...

Fact Check: New York Post ने मौलवी की हत्या की खबर में लगाई पुजारी की फोटो, बाद में हटाई, टाइटल फिर भी नहीं बदला

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर की एक घटना की रिपोर्टिंग को लेकर न्यू यार्क पोस्ट 29 जून को ट्विटर पर छाया रहा. भारतीयों ने खबर को लेकर न्यू यार्क पोस्ट को जमकर लताड़ा. खबर का टाइटल है, Indian priest’s wife chops off his penis after he wanted to marry again.

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर की एक घटना की रिपोर्टिंग को लेकर न्यू यार्क पोस्ट 29 जून को ट्विटर पर छाया रहा. भारतीयों ने खबर को लेकर न्यू यार्क पोस्ट को जमकर लताड़ा. खबर का टाइटल है, Indian priest’s wife chops off his penis after he wanted to marry again. यूजर्स ने दावा किया कि न्यू यार्क पोस्ट ने ट्विटर पर पोस्ट किए लिंक में पुजारी की फोटो का इस्तेमाल किया है जबकि खबर में मौलवी की हत्या हुई है. इस हिसाब से देखा जाए तो न्यू यार्क पोस्ट ने गलत फोटो और शब्द का इस्तेमाल किया है.

@iGyanendraGiri ने इंडिया टुडे की खबर और न्यू यार्क पोस्ट के ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा कि वास्तविक खबर वर्सेज हिंदूफोबिक ट्विस्टेड खबर

भाजपा नेता ​कपिल मिश्रा ने भी न्यू यार्क पोस्ट की खबर और ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर किया. उन्होंने लिखा, न्यू यार्क पोस्ट हिंदू पुजारी की इमेज इस्तेमाल कर रहा है जबकि मुजरिम मुस्लिम मौलाना मौलवी वकील अहमद है. यह एनडीटीव की तरह गिरे हुए स्तर का प्रोपेगैंडा और नफरत भरी पत्रकारिता है.

@SouleFacts ने भी खबर और ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर किया. उन्होंने लिखा, न्यू यार्क पोस्ट तुम्हारा हिंदुओं के प्रति नफरत सबको पता है, मुस्लिम मौलवी का प्राइवेट पार्ट काटा गया और तुमने फोटो हिंदू पुजारी की लगा दी. तुमने यह जानबूझकर हिंदुओं के खिलाफ किया है या सिर कलम होने के डर से मौलवी की फोटो नहीं लगाई है.

The News Postmortem ने इसकी पड़ताल के लिए सबसे पहले न्यू यार्क पोस्ट के टि्वटर अकाउंट को चेक किया. इसमें 29 जून 2021 को 3.38 AM मतलब तड़के पौने चार बजे इसे पोस्ट किया गया है जबकि शेयर किए जा रहे स्क्रीनशॉट में इसका टाइम 28 जून 2021 1.04 PM है मतलब दोपहर में.

हमने न्यू यार्क पोस्ट की खबर भी चेक की तो उसमें खबर पब्लिशिंग का समय 28 जून 2021 1.03 PM है यानी शेयर किए जा रहे स्क्रीनशॉट से एक मिनट पहले का है. इसमें पुलिस की गाड़ी की फोटो लगी हुई है. खास बात यह है कि खबर को अपडेट किया गया है. स्क्रीनशॉट के मैटर और खबर देखने पर सब एकजैसा है बस फोटो अलग है. खबर को शाम 5.37 पर अपडेट किया गया है. यह कहा जा सकता है कि शाम को फोटो को बदला गया है.

new york post twitter indian priest

हमने ट्वीट का कैचे वर्जन भी खोजने की कोशिश की लेकिन कोई सफलता नहीं मिली. इससे तो यह पता चलता है कि खबर दोपहर 1.03 पर लिखी गई. इसमें हिंदू पुजारी की फोटो इस्तेमाल की गई होगी. फिर इसको ट्विटर पर शेयर किया गया. आपत्ति उठने पर शाम को ट्वीट डिलीट कर दिया गया और खबर में फोटो चेंज कर दी गई. हालांकि, टाइटल में कोई बदलाव नहीं किया गया. जबकि मुस्लिम मौलवी को क्लेरिक बोला जाता है न कि प्रीस्ट. प्रीस्ट का मतलब पुजारी या पादरी होता है.

new york post twitter indian priest

कुछ और वेबसाइट्स hotworldreport और wmleader ने इसी कंटेट को पोस्ट किया है. उनका टाइटल भी एक जैसा है. दोनों ने ही हिंदू पुजारी की फोटो का इस्तेमाल किया है. मतलब हो सकता है कि दोनों वेबसाइट्स ने न्यू यार्क पोस्ट की शुरुआती खबर को कॉपी पेस्ट किया हो और बाद में बदलाव नहीं किया हो.

new york post twitter indian priest
new york post twitter indian priest

अब हम बात करते हैं खबर की. दैनिक जागरण के मुताबिक, मामला मुजफ्फरनगर के भौराकलां थाना क्षेत्र का है. शिकारपुर गांव के मौलवी वकील अहमद ने दो निकाह करे हुए थे. पहली पत्नी हाजरा से उसके पांच बच्चे हैं. इनमें से चार की शादी हो चुकी है जबकि एक अविवाहित बेटी है. दूसरी बेगम उसको छह माह पहले छोड़ गई थी. मौलवी तीसरी शादी के चक्कर में था जबकि हाजरा बेटी का निकाह करना चाहती थी. 23 जून को इसको लेकर दोनों में विवाह हो गया और हाजरा ने छुरी से उसके प्राइवेट पार्ट पर वार कर दिया. इससे मौलवी की मौत हो गई.

new york post twitter indian priest

Postmortem रिपोर्ट: न्यू यार्क पोस्ट ने गैर जिम्मेदाराना तरीके से खबर लगाई है. मौलवी की हत्या का खबर में प्रीस्ट लिखा और फोटो भी पुजारी की लगा दी थी. हालांकि, बाद में फोटो को बदल दिया गया लेकिन कुछ और वेबसाइट्स ने इसमें बदलाव नहीं किया. इससे कई लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंची है.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : भ्रामक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Fact Check: क्या बीमार मां का इलाज कराने आए फौजी लक्ष्मण को पुलिसवालों ने बुरी तरह पीटा? जानिए क्या है सच

सोशल मीडिया पर दो वीडियो और कुछ फोटो तेजी से वायरल हो रहे हैं. इसमें एक में वीडियो में टाइटल Justice for...

Fact Check: इस फोटो में दिख रही बुजुर्ग महिला Akshay Kumar की मां नही हैं, जानिए कौन हैं ये

बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की मां अरुणा भाटिया का 8 सितंबर की सुबह निधन हो गया. वह मुंबई स्थित हीरानंदानी अस्पताल...

Recent Comments

vibhash