Home Viral सच्चाई Fact Check: लखनऊ में युवती ने कैब ड्राइवर और युवक को ट्रैफिक...

Fact Check: लखनऊ में युवती ने कैब ड्राइवर और युवक को ट्रैफिक कर्मी के सामने पीटा, पुलिस ने पीड़ित को ही कर दिया बंद

दो दिन से सोशल मीडिया पर लखनऊ की एक युवती छाई हुई है. उसकी एक वीडियो काफी वायरल हो रही है, जिसमें वह एक कैब चालक को पीट रही है. ट्रैफिक कर्मी के सामने भी युवती ड्राइवर को उछल—उछल कर मार रही है. ट्विटर पर यह वीडियो काफी वायरल हो रही है.

दो दिन से सोशल मीडिया पर लखनऊ की एक युवती छाई हुई है. उसकी एक वीडियो काफी वायरल हो रही है, जिसमें वह एक कैब चालक को पीट रही है. ट्रैफिक कर्मी के सामने भी युवती ड्राइवर को उछल—उछल कर मार रही है. ट्विटर पर यह वीडियो काफी वायरल हो रही है.

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने भी इस ​वीडियो को ट्वीट करते हुए लिखा है,
CCTV से ऐसा लग रहा है कि ये लड़की इस गरीब टैक्सी चालक को इतनी बुरी तरह से पीट रही है क्योंकि उसने गाड़ी नहीं रोकी. ये बेहद शर्मनाक है. किसने अधिकार दिया इस लड़की को मारपीट करने का? इस मामले में @Uppolice जांच करे और कानून को हाथ में लेने के अपराध में महिला पर कड़ी कार्रवाई हो.

हमें ट्विटर पर इससे संबंधित और वीडियो भी मिले. मेघ अपडेट्स ने इस मामले का एक और वीडियो पोस्ट किया है. इसमें दिख रहा है कि कैब ड्राइवर को बचाने आए एक अन्य युवक से भी युवती ने मारपीट की.

इस मामले में हमें अमर उजाला की खबर का स्क्रीनशॉट मिला. इसके अनुसार, मामला शुक्रवार यानी 30 जुलाई की रात का है. कृष्णानगर इलाके में एक युवती ओला कैब की चपेट में आने सेबची. कैब तेज गति से आ रही थी. ट्रैफिक कर्मियों ने कैब को रुकवाया तो युवती ने ड्राइवर को पीट दिया. बीच—बचाव करने पर चालक के भाई को भी युवती ने पीट दिया. कैब चालक का नाम सआदल अली है. युवती तेज रफ्तार कैब से कुचलने से बची. चालक ने युवती को गाली दी और भागने लगा. ट्रैफिक कर्मियों ने कैब को रुकवाया तो युवती ने मारपीट शुरू कर दी. पुलिस ने कैब चालक और दो भाइयों को पकड़कर उनका शांतिभंग में चालान कर दिया.

lucknow girl beating cab driver reason

इस मामले में हमें घटनास्थल का सीसीटीवी फुटेज भी दिखा. इसे नीरज यादव ने ट्वीट किया है. इसमें दिख रहा है, रेड लाइट पर कई गाड़ियां भाग रही थी. बत्ती लाल होने के बावजूद गाड़ियां रुक नहीं रही थीं. युवती जेब्रा क्रासिंग से रोड पार कर रही थी. वह एक जबह पर कैब के सामने रुक जाती है. यह देखकर चालक कैब रोक देता है. इसके बाद युवती कैब के पास आकर चालक से मारपीट करती है. ट्रैफिक कर्मी वहां खड़ा हुआ था. उसके सामने ही युवती उसको पीटती रही. युवती ने उसका फोन भी तोड़ दिया. कैब ड्राइवर को बचाने आए युवक को भी युवती ने पीटा. वीडियो में देखने से लग रहा था कि बीचबचाव करने आया युवक कैब ड्राइवर का भाई नहीं थी बल्कि वहां से गुजर रहा था.

lucknow girl beating cab driver reason
lucknow girl beating cab driver reason

इस बारे में हमने गूगल पर दैनिक जागरण की खबर भी मिली. इसके मुताबिक, कैब चालक कानपुर रोड की तरफ से आ रहा था. युवती वैगनआर कार के खुद खड़ी हो गई थी. उसको टक्कर भी नहीं लगी. युवती ही ड्राइवर के पास गई थी और उसको पीटा था. बचाव में कैब ड्राइवर के भाई दाउद और इनायत वहां पहुंचे तो युवती ने उनको भी पीटा. पुलिस ने कैब ड्राइवर और उसके भाइयों पर शांतिभंग की कार्रवाई करके युवती को बेगुनाह बताया था. पहले पुलिस ने सआदत अली को एक्सयूवी का चालक बताया था. पुलिस ने बयान दिया था कि एक्सयूवी से टक्कर लगने पर युवती ने ड्राइवर को पीटा था. सीसीटीवी फुटजे सामने आने पर पता चला कि वाहन एक्सयूवी नहीं बल्कि वैगन आर था. सीसीटीवी फुटजे सामने आने के बाद पुलिस के सुर बदल गए. इंस्पेक्टर कृष्णानगर महेया दुबे का कहना है कि युवती के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है. अब पुलिस को युवती की गलती ज्यादा दिखने लगी है. अगर इस मामले में पुलिस को तहरीर दी जाती है तो कार्रवाई की जाएगी.

नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक, सआदत के भाई इनायत का कहना है कि वह उस समय मौके पर नहीं था. जब सआदत का फोन नहीं किया तो कार को आॅनलाइन ट्रेस किया. उसकी लोकेशन कृष्णानगर थाने में मिली. वहां पुलिसवालों ने उसको और भाई दाउद को भी बंद कर दिया. आरोप है कि उनको उनकी कार भी 5 हजार की रिश्वत देने पर मिली है.

Postmortem रिपोर्ट: वीडियो फुटेज देखने पर पता चलता है कि कैब ड्राइवर की गलती इतनी थी कि वह रेड लाइट जंच कर रहा था. युवती खुद गाड़ी के सामने रुकी थी. उसने ड्राइवर और एक अन्य युवक को सबके सामने पीटा. ऐसा करने को उसको कोई हक नहीं था. पहले बिना जांच पड़ताल के पुलिस ने पी​ड़ित और उसके भाइयों पर ही कार्रवाई कर दी थी. मामला उछलने पर युवती के खिलाफ 107/16 की कार्रवाई की है.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : सच

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Fact Check: क्या बीमार मां का इलाज कराने आए फौजी लक्ष्मण को पुलिसवालों ने बुरी तरह पीटा? जानिए क्या है सच

सोशल मीडिया पर दो वीडियो और कुछ फोटो तेजी से वायरल हो रहे हैं. इसमें एक में वीडियो में टाइटल Justice for...

Fact Check: इस फोटो में दिख रही बुजुर्ग महिला Akshay Kumar की मां नही हैं, जानिए कौन हैं ये

बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की मां अरुणा भाटिया का 8 सितंबर की सुबह निधन हो गया. वह मुंबई स्थित हीरानंदानी अस्पताल...

Recent Comments

vibhash