Home Viral सच्चाई #FactCheck 3 साल पुराने विज्ञापन से जावेद को किया जा रहा बदनाम,...

#FactCheck 3 साल पुराने विज्ञापन से जावेद को किया जा रहा बदनाम, माफी भी मांग चुके हैं हबीब

क्या हेयर स्टाइलिस्ट जावेद हबीब ने अखबार में ऐसा विज्ञापन दिया है, जिसमें उसके पॉर्लर में देवी—देवता मेकअप करते हुए दर्शाए गए हैं? इसको लेकर जावेद पर निशाना साधा जा रहा है.

आजकल सोशल मीडिया का काफी गलत इस्तेमाल हो रहा है. लोग बिना सोचे समझे पुरानी या फेक पोस्ट डाल देते हैं, जिससे लोगों में गलतफहमी पैदा होती है और उनके बीच में दूरियां बढ़ती हैं. सोशल मीडिया पर ऐसी पोस्ट की बाढ़ आई पड़ी है. ऐसी ही एक पोस्ट 7 सितंबर को की गई. इसमें दावा किया गया कि मशहूर हेयर स्टाइलिस्ट जावेद हबीब ने हिदू देवी देवताओं की तस्वीरों वाला एक विज्ञापन न्यूजपेपर में दिया है. इसको लेकर आपत्ति उठाई गई है.

Dr. Yogiitha S @yoshetty1 अकाउंट से 7 सितंबर को न्यूजपेपर पर छपे विज्ञापन की ​कटिंग पोस्ट की गई. इसमें हिंदू देवी और देवता जावेद हबीब के सैलून में मेकअप करते हुए दर्शाए गए. विज्ञापन में लिखा हुआ है कि भगवान भी जावेद हबीब के सैलून में आते हैं. इस पर 1 सितंबर से 31 अक्टूबर तक का एक आॅफर भी दिया गया है. विज्ञापन की कटिंग के साथ में यूजर ने लिखा,
Javed habib needs to understand what a big mistake he has done!!

#boycottJavedHabib

मतलब जावेद हबीब को समझना चाहिए कि उन्होंने क्या बड़ी गलती कर दी है.
इस ट्वीट को 700 से ज्यादा लोग रिट्वीट कर चुके हैं. इसको लेकर कई लोगों ने जावेद हबीब पर सवाल भी उठाए.

Javed Habib Tweet

पोस्ट देखने के लिए यहां और आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

The News Postmortem के सामने जब यह पोस्ट आई तो हमने इसकी पड़ताल शुरू की. Dr. Yogiitha S @yoshetty1 के ट्वीट पर ही कुछ लोगों ने कमेंट किए कि यह मामला पुराना है. Harshil Mehta હર્ષિલ મહેતા @MehHarshil ने कहा कि यह मामला 2017 का है. साथ मं उन्होंने जावेद हबीब के 5 सितंबर 2017 के ट्वीट का लिंक भी दिया. इसमें लिखा था,
Our Ad was not published to hurt anyone’s sentiments…we sincerely apologise.
मतलब हमारा विज्ञापन किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था…हम इसकी माफी मांगते हैं.
हालांकि, यह वेरीफाइड ट्विटर अकाउंट नहीं है.

Javed Habib Controversy

पोस्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें.

इस पर Dr. Yogiitha ने जब सवाल उठाया कि इसके बावजूद उसने विज्ञापन वापस नहीं लिया तो जवाब मिला कि उस दिन के बाद से यह विज्ञापन किसी अखबार या सोशल मीडिया पर पब्लिश नहीं हुआ. इस जवाब का Pankaj shukla @pankajashukla_ ने समर्थन करते हुए लिखा,
On 5 September 2017, Habib’s company issued an apology.
“It was done without our knowledge of the Company by some local people in West Bengal,” the apology stated.
मतलब 5 सितंबर 2017 को हबीब की कंपनी ने एक माफीनामा जारी किया था. इसमें कहा गया था कि वेस्ट बंगाल में यह कुछ लोगों द्वारा बिना कंपनी की जानकारी में लाए बगैर किया गया है. इस बारे में वह माफी मांगते हैं.

Javed Habib News in Hindi

इसके बाद हमने गूगल के रिवर्स इमेज टूल का इस्तेमाल करके इमेज को सर्च किया तो हमें कैच न्यूज का लिंक मिला. 6 सितंबर 2017 को प्रकाशित खबर के मुताबिक, विज्ञापन में मां दुर्गा मां लक्ष्मी व सरस्वती और भगवान गणेश व कार्तिक की फोटो है. ये हबीब के पार्लर में दर्शाए गए हैं. उस समय भी इस विज्ञापन का सोशल मीडिया पर काफी विरोध हुआ था. इस मामले में हबीब ने एएनआई से बातचीत में कहा था कि हमारी तरफ से सीधे तौर पर इस विज्ञापन को तैयार नहीं कराया गया था. कोलकाता में एक फ्रेंचाइजी ने इसको तैयार कराया था. हबीब की करीब 22 मास्टर फ्रेंचाइजी हैं, जिनमें करीब 500 लोग पार्टनर हैं. फ्रेंचाइजी को उनसे अनुमति लेनी होती है लेकिन इस बार ऐसा नहीं किया गया. उसकी गलती उनकी गलती है. इसके लिए वह माफी मांगते हैं. इस तरह की गलती दोबारा नहीं होगी.

इससे पहले जावेद हबीब ने एक माफीनामा जारी किया था. इसके साथ ही उन्होंने सबको आने वाले त्योहारों और दुर्गा पूजा की बधाई दी थी.

Jawed Habib Latest news

पोस्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें.

Postmortem रिपोर्ट: यह विज्ञापन तीन साल पुराना है, जिसके लिए जावेद हबीब ने माफी भी मांग ली थी. विवाद के बाद इस विज्ञापन को किसी और न्यूजपेपर में नहीं छापा गया था. यह पोस्ट भ्रामक है. इसको शेयर मत करें.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : भ्रामक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash