Home COVID-19 Truth Fact Check: गाजियाबाद पुलिस भी भर्ती नहीं करा पाई बुजुर्ग को अस्पताल...

Fact Check: गाजियाबाद पुलिस भी भर्ती नहीं करा पाई बुजुर्ग को अस्पताल में तो वापस घर छोड़ दिया, इलाज के अभाव में दम तोड़ा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सूचना सलाहकार शलभमणि त्रिपाठी ने 3 मई की शाम को ट्वीट किया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर सर्विलांस के जरिए इनकी लोकेशन निकाली गई और यूपी पुलिस इनके घर पहुंची. इनके परिवार के सदस्य को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है.

कोरोना की दूसरी लहर क्या आई, पूरी स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई. आम लोगों को अस्पताल में बेड नहीं मिल रहे हैं. लोग सड़कों पर दम तोड़ रहे हैं. हालात इतने खराब हैं कि सोशल मीडिया पर लोग जिंदगी बचाने की गुहार लगा रहे हैं लेकिन उनकी उम्मीदें दम तोड़ रही हैं.

ऐसा ही एक मामला गाजियाबाद के इंदिरापुरम में भी सामने आया. 4 मई 2021 के एडिशन में अमर उजाला में एक खबर छपी. इसके मुताबिक, इंदिरापुरम के न्यायखंड में एक 72 साल के बुजुर्ग सूरज कश्यप की तबीयत काफी बिगड़ गई. उनकी बेटी कोरोना पाॅजिटिव होने के चलते कमरे में बंद है, जबकि पत्नी दृष्टिहीन है. आम्रपाली सोसायटी में रहने वाले इस बुजुर्ग की सहायता के लिए इंदिरापुरम की पुलिस पहुंची और उनको गाजियाबाद के सर्वोदय अस्पताल ले गए. वहां उनको उपचार दिलाकर वापस घर भेज दिया.

Corona news in hindi

The News Postmortem ने इससे संबंधित ट्वीट्स तलाशे तो सच्चाई कुछ और निकली. हमने सबसे पहले मदद वाला ट्वीट तलाशा. 2 मई को फरहान अख्तर नाम के शख्स ने ट्वीट किया कि 72 साल के सूरज कश्यप कोरोना निगेटिव हैं. उनकी पत्नी दृष्टिहीन हैं. एक बेटी कोरोना पाॅजिटिव है, जो होम आईसोलेट है. सूरज की हालत काफी गंभीर है. उनको फौरन अस्पताल में भर्ती कराने की आवश्यकता है. 15 दिन से उन्होंने खाना भी नहीं खाया है.

Ghaziabad Indirapuram Corona NEws in Hindi

इसके जवाब में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सूचना सलाहकार शलभमणि त्रिपाठी ने 3 मई की शाम को ट्वीट किया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर सर्विलांस के जरिए इनकी लोकेशन निकाली गई और यूपी पुलिस इनके घर पहुंची. इनके परिवार के सदस्य को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है. इसके लिए शलभमणि त्रिपाठी ने गाजियाबाद पुलिस की सराहना भी की. इसके साथ ही 33 सेकंड की एक वीडियो भी पोस्ट की गई, जिसमें बुजुर्ग को एंबुलेंस में ले जाते हुए पुलिसकर्मी दिख रहे हैं.

Shalabhmani Tripathi Tweet

इस ट्वीट के करीब 20 मिनट बाद ही पूजा प्रसन्ना ने ट्वीट किया कि वह उनमें से एक थी, जिन लोगों ने बुजुर्ग को नाॅन कोविड अस्पताल सर्वोदय हाॅस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर पहुंचाया था. पुलिसकर्मी बुजुर्ग के साथ अस्पताल तक गए थे. सूरज को 103 डिग्री बुखार था. अस्पताल ने उनको भर्ती करने से मना कर दिया. उन्होंने अस्पताल से विनती की कि बुजुर्ग को भर्ती कर लें. उनका कोविड टेस्ट निगेटिव आया है लेकिन अस्पताल ने उनको भर्ती नहीं किया. इसके बाद पुलिस उनको घर छोड़ गई और एंबुलेंस ड्राइवर को उसका किराया दे दिया. बुजुर्ग को अब भी सहायता की जरूरत है. कुछ देर में पूजा ने फिर ट्वीट कर बताया कि बुजुर्ग की मौत हो गई है. उन लोगों ने उनको बचाने की काफी कोशिश की लेकिन वे सफल नहीं हो पाए.

Ghaziabad Indirapuram Police Hindi NEws
ghaziabad indirapuram covid hindi news

Postmortem रिपोर्टः इसके आधार पर कहा जा सकता है कि पुलिस की मदद बुजुर्ग को अस्पताल तो ले जाया गया लेकिन अस्पताल ने उनको भर्ती नहीं किया. इसके बाद पुलिस उनको घर छोड़ गई. इलाज के अभाव में बुजुर्ग की मौत हो गई.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : भ्रामक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash