Home Viral सच्चाई #FactCheck 5 अगस्त को होगा राम मंदिर का भूमि पूजन, नेशनल अखबार...

#FactCheck 5 अगस्त को होगा राम मंदिर का भूमि पूजन, नेशनल अखबार ने छापी तैयारी की फर्जी तस्वीर

5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन होगा. खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंदिर निर्माण की नींव रखेंगे. इस बीच व्हाट्सऐप पर 'सजने लगी है मेरे राम की नगरी...5 अगस्त की है तैयारी...जय श्री राम' मैसेज के साथ भगवा रंग में रंगे घरों की कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं. The News Postmortem की पड़ताल में पता चला कि ये तस्वीरें अयोध्या की नहीं हैं.

5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की नींव रखी जाएगी. उस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भव्य राम मंदिर की आधारशिला रखेंगे. भूमि पूजन की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. इसमें प्रधानमंदी मोदी के साथ ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, सर संघचालक मोहन भागवत, गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद रहेंगे.

Ayodhya Ram Mandir Model
Source: Google

राम मंदिर के भूमिपूजन के ऐलान के बाद ही सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें तैरने लगीं. तीन—चार तस्वीरों के साथ में एक मैसेज है,
सजने लगी है मेरे राम की नगरी…5 अगस्त की है तैयारी…जय श्री राम
तस्वीरों में शहर की गलियां दिखाई गई हैं. घरों पर भगवान भोलेनाथ, गणेश जी और अन्य देवी-देवताओं के चित्र बने हुए हैं. घरों व दुकानों पर कई जगह हर-हर महादेव भी लिखा हुआ है.

एक राष्ट्रीय अखबार ने भी इन्हीं में से एक फोटो को 24 जुलाई के अंक में फ्रंट पेज पर छापा. अखबार में कैप्शन लिखा था,
राम​मंदिर निर्माण के लिए 5 अगस्त को भूमि पूजन की तारीख तय होने के बाद अब अयोध्या मं इसकी तैयारियां शुरू हो गई हैं. शहर की हर गली को सजाया जा रहा है. घरों की दीवार पर रामायण के दृश्य उकेरे गए हैं.

Ayodhya Ram Mandir Fake Images Viral

इन तस्वीरों को देखकर The News Postmortem की टीम ने पोस्ट का छानबीन शुरू की. गूगल रिवर्स इमेज में सर्च करने पर हमें कुछ नहीं मिला. इसके बाद हमने कई कीवर्ड डालकर भी गूगल को खंगाला तो अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन के ऐलान व राम मंदिर से संबंधित खबरें तो मिलीं लेकिन इस तरह से घरों को सजाने की कोई जानकारी नहीं नजर आई. यांडेक्स पर भी तलाशने में कोई रिजल्ट हाथ नहीं लगा.

Ayodhya Ram mandir Fake Viral Image

खोजबीन में हमें ट्विटर पर एक पोस्ट मिली, जिसमें इसी तरह की फोटो पोस्ट की गई थीं. 19 जुलाई को पोस्ट किए गए इस ​ट्वीट में लिखा था,
ये भगवा संस्कृति में बने मकान और गलियां भारत के प्रयागराज में स्थित हैं. इन घरों में मानो ऐसा लग रहा हो कि महादेव खुद विराजमान हैं. धन्य हैं वे, जिनके ये घर है एवं धन्यवाद @myogiadityanath जी की सरकार को वरना कांग्रेस की सरकार होती तो घरों को गिरवा चुकी होती। #हरहरमहादेव
इस पोस्ट को 367 ​लोगों ने रिट्वीट किया और 1900 से ज्यादा लोगों ने लाइक किया है.

आकाईव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

शुभांगी मिश्रा @ShubhangiBjp ने भी 18 जुलाई को ये तस्वीरें पोस्ट की और लिखा, बनारस के हर गली में महादेव बसते हैं…#हरहरमहादेव
इस पर कुछ लोगों ने उन्हें कमेंट करके बताया कि ये गली बनारस नहीं बल्कि प्रयागराज की है.

आकाईव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

इससे लगा कि हो सकता है ये तस्वीरें प्रयोगराज की हों. इसके लिए हमने बनारस के पत्रकार आशीष शुक्ला से संपर्क किया तो उन्होंने बताया कि ये तस्वीरें प्रयागराज की ही हैं. यूपी सरकार में मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नंदी ने अपने क्षेत्र को भगवा रंग में रंगवाया है.

Google पर फिर से नए कीवर्ड से सर्च करने पर हमें इससे संबंधित कुछ खबरों के लिंक मिले. आज तक के अनुसार, यह प्रयागराज का बहादुरगंज इलाका है. यूपी के कैबिनेट मंत्री नंद गोपाल नंदी ने इस इलाके को भगवा रंग में रंगवाया है. इसके लिए बाकायदा नगर निगम की एक गाड़ी लगाई गई. मंत्री की पत्नी अभिलाषा गुप्ता प्रयागराज की मेयर हैं. गली के हर घर को भगवा रंग में रंगवाया गया है. खबर में हमें कुछ फोटो ऐसी मिली, जो वायरल तस्वीर से मेल खाती हैं.

Ayodhya Ram Mandir Fake Image Viral
Source: Aaj Tak

नवभारत टाइम्स के अनुसार, नंद गोपाल नंदी का घर इसी इलाके में हैं. उन्होंने व​हां बने शिव मंदिर के आसपास सड़क पर बने घरों को भगवा रंग में रंगवा दिया. इसका कुछ लोगों ने विरोध भी किया तो आरोप है कि उनसे मारपीट की गई. इस मामले में पुलिस से शिकायत भी की गई. इस पर पुलिस ने केस भी दर्ज कर लिया.

Ram mandir nirman Fake image viral
Source: Aaj Tak

Postmortem रिपोर्ट: The News Postmortem की चीरफाड़ में पता चला कि ये तस्वीरें प्रयागराज की हैं. अयोध्या में इस तरह घरों पर देवी—देवताओं के चित्र नहीं बनाए गए हैं. अयोध्या में तैयारी के मैसेज के साथ डाली गई यह पोस्ट फर्जी है.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK :

1 COMMENT

  1. यकीन नहीं होता, राष्ट्रीय स्तर के अखबार भी इस तरह की गलत खबर से रहे हैं। शाबाश आप अच्छा काम कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash