Home Viral सच्चाई Fact Check: क्या बीमार मां का इलाज कराने आए फौजी लक्ष्मण को...

Fact Check: क्या बीमार मां का इलाज कराने आए फौजी लक्ष्मण को पुलिसवालों ने बुरी तरह पीटा? जानिए क्या है सच

सोशल मीडिया पर दो वीडियो और कुछ फोटो तेजी से वायरल हो रहे हैं. इसमें एक में वीडियो में टाइटल Justice for soldier laxman लिखा है. 1 मिनट के वीडियो के साथ ही एक 24 सेकंड की सीसीटीव फुटेज भी वायरल हो रही है. साथ ही कुछ फोटो हैं, जिनमें घायल व्यक्ति के घावों को दिखाया गया है. दावा किया गया है कि पुलिस वालों ने बीमार मां का इलाज कराने आए फौजी को बुरी तरह से पीटा है.

सोशल मीडिया पर दो वीडियो और कुछ फोटो तेजी से वायरल हो रहे हैं. इसमें एक में वीडियो में टाइटल Justice for soldier laxman लिखा है. 1 मिनट के वीडियो के साथ ही एक 24 सेकंड की सीसीटीव फुटेज भी वायरल हो रही है. साथ ही कुछ फोटो हैं, जिनमें घायल व्यक्ति के घावों को दिखाया गया है. दावा किया गया है कि पुलिस वालों ने बीमार मां का इलाज कराने आए फौजी को बुरी तरह से पीटा है. उसको किसी मीडिया हाउस ने कवर नहीं किया है.

लक्ष्मण सिंह फौजी

एक मिनट के वीडियो में एक युवक कह रहा है कि अपनी बीमार मां का इलाज कराने गए आर्मी के जवान लक्ष्मण सिंह को पुलिसवालों ने बुरी तरह पीटा. किसी मीडिया हाउस ने उसको कवर नहीं किया. इस वीडियो को इतना शेयर करो कि मामला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक पहुंच जाए. इसके साथ में मैसेज है,
मैं इस वीडियो को शेयर करूंगा और चार ग्रुप में डालूंगा. कोई पुलिस वाले को अधिकार नहीं है कि फौजी भाई के ऊपर हाथ उठाए. मेरे हिसाब से जितने पुलिस वाले मारे हैं, सब को सस्पेंड और बाकी की जिंदगी जेल में सड़ने के लिए छोड़ दो. जय हिंद. जय श्री राम

army man beaten by police

24 सेकंड की सीसीटीवी फुटेज में एक शख्स को दो—तीन लोग मारते दिख रहे हैं. इनमें से एक पुलिस की वर्दी में है. वह रो रहा है लेकिन पुनिसवाले उसे पीटे जा रहे हैं. फोटोज में घायल शख्स का चेहरा और उसके घावों को दिखाया गया है.

army jawan beaten by police

Justice for soldier laxman लिखे वीडियो को देखने पर हमें उस पर शक हुआ. वीडियो में इंसाफ मांग रहे शख्स के चेहरे पर कोई चिंता या सिकन नहीं दिख रही है. The News Postmortem ने सबसे पहले इस वीडियो से एक तस्वीर लेकर गूगल पर रिवर्स इमेज प्रोसेज से तलाश की. छानबीन में हमें कुछ यूट्यूब वीडियो के लिंक मिले. इन पर इस वीडियो को अपलोड किया गया है लेकिन कोई जानकारी नहीं है.

छानबीन में हमें Indian Army On The Height Of World फेसबुक पेज पर यह वीडियो मिल गया. खास बात यह है कि इस पेज पर वीडियो को 25 अप्रैल 2020 को अपलोड किया गया है. मतलब करीब डेढ़ साल पहले. हालांकि, इसमें कोई जानकारी नहीं दी गई है.

army man beaten by police

हमने लक्ष्मण सिंह फौजी की पिटाई समेत कई कीवर्ड्र्स से गूगल को खंगाला लेकिन कोई जानकारी नहीं मिली. इसके बाद हमने सीसीटीवी फुटेज से तस्वीर निकालकर गूगल पर तलाश की तो अमर उजाला और दिव्य भास्कर का लिंक मिला. 4 सितंबर 2021 को अमर उजाला में पब्लिश खबर में इस सीसीटीवी फुटेज का एक स्क्रीनशॉट लगा हुआ था. खबर के मुताबिक, यह मामला 29 अगस्त की रात का है. गुजरात के जूनागढ़ का यह घटना हुई है. मनावदार तालुका के पदर्दी गांव में सेना के जवान कान्हाभाई केशवाला को पुलिसवालों ने बेदर्दी से पीटा है. वह छुट्टी पर घर आया था. इसका वीडियो वायरल होने के बाद दो पुलिसकर्मियों राजेश बांधिया और चेतन मकवाना को सस्पेंड कर दिया गया है.

army man beaten by police

दिवय भास्कर पर यह वीडियो भी मिल गई. उसमें छपी खबर के मुताबिक, 29 अगस्त को पुलिस को सूचना मिली कि पदर्दी गांव में लव मैरिज को लेकर कुछ बवाल हो सकता है. वहां 20—25 लोगों की भीड़ ने पुलिस पर हमला करके उसके वाहन का शीशा तोड़ दिया. पथराव के बाद एक महिला पुलिसकर्मी समेत पुलिवाले वहां से जान बचाकर भागे. महिला पुलिसकर्मी ने अपने सीनियर अधिकारियों को इसकी जानकारी दी तो पुलिस बल वहां पहुंचा. पुलिस ने वहां से 6 लोगों को गिरफ्तार किया, जिनमें सेना का जवान कान्हाभाई गोविंदभाई केशवाला और उसकी मां भी शामिल है. आरोप है कि पुलिस वालों ले जवान और उसके परिजनों को बुरी तरह पीटा है. इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है.

इसके बाद कुछ फौजियों और रिटायर फौजियों ने पुलिस स्टेशन में इसकी शिकायत की. एसपी से भी इसकी शिकायत की गई है. वीडियो सामने आने के बाद गुजरात के लोग पुलिसवालों से काफी नाराज हैं. केशॉड डिप्टी एसपी जेबी गाधवी का कहना है कि यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण घटना है. इसकी जांच की जा रही है. मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिसकर्मियों राजेश पर्बत बांधिया और चेतन देवाशी मकवाना को सस्पेंड कर दिया गया है. इनके खिलाफ विभागीय जांच भी बैठा दी गई है.

army jawan beaten by police

Postmortem रिपोर्ट: सीसीटीवी फुटेज और लक्ष्मण सिंह के लिए इंसाफ मांगने वाले वीडियो में कुछ भी समान नहीं है. वायरल वीडियो करीब डेढ़ साल पुराना है. उसका कोई प्रूफ भी नहीं मिल रहा. साथ ही वीडियो देखने से लगता है कि उसे वायरल करने मकसद से बनाया गया है. सीसीटीवी फुटेज गुजरात के जूनागढ़ की है. उसमें जवान का नाम कान्हाभाई गोविंदभाई केशवाला है न कि लक्ष्मण सिंह. फोटो में दिख रहा शख्स कान्हाभाई की तरह लग रहा है लेकिन इसकी कोई पुष्टि नहीं कर सकते हैं.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : भ्रामक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Fact Check: निर्दलीय चुनाव लड़े थे BJP नेता D Karthik, केवल एक वोट मिला, जानिए, उनके परिजनों ने क्यों नहीं दिया वोट

सोशल मीडिया पर तमिलनाडु निकाय चुनाव छाया हुआ है. यूजर्स जमकर भाजपा को ताने दे रहे हैं. दावा किया जा रहा है...

Fact Check: रिकॉर्ड वैक्सीनेशन की खुशी में नहीं दिया जा रहा Jio, Airtel या Vi यूजर्स को 3 महीने का फ्री रिचार्ज

त्यौहारों के मौसम चल रहा है. कोरोना की तीसरी लहर की आशंका भी बनी हुई है. ऐसे में देश में तेजी से...

Fact Check: Tata Group नहीं दे रहा फ्री कार, लिंक पर क्लिक करते ही आपका फोन हैक कर लेगा हैकर

टाटा ग्रुप आज खबरों में छाया हुआ है. सुबह से मीडिया में खबरें तैर रही हैं कि एयर इंडिया कंपनी वापस टाटा...

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Recent Comments

vibhash