Home Political सच Fact Check: क्या किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए 350 रुपये...

Fact Check: क्या किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए 350 रुपये देकर मजदूरों को बुलाया गया, जानिए क्या है सच

एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. दावा किया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी ने मजदूरों को प्रदर्शन के लिए 350 रुपये का लालच देकर बुलाया है.

क्या किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए दिहाड़ी मजदूरों को बुलाया गया है? क्या उनको ऐसा करने के लिए पैसे देन की बात तय हुई है? और क्या मजदूरों को बुलाने के पीछे आम आदमी पार्टी का हाथ है? इतना ही नहीं दावा यह भी किया जा रहा है कि मजदूरों को प्रदर्शन के लिए तय रुपये भी नहीं दिए गए हैं. इसका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो हा है. इसको किसान आंदोलन से जोड़कर लोग आम आदमी पार्टी को जमकर कोस रहे हैं.

Sunil Kumar Singh @SunilKu68849256 ने 4 दिसंबर को यह 1 मिनट 42 सेकंड का एक वीडियो पोस्ट किया. इसमें हरियाणा आम आदमी पार्टी की टीशर्ट पहने हुए लोग नजर आ रहे हैं. उन्होंने आम आदमी पार्टी की टोपी भी लगा रखी है. उनका कहना है कि उनको रैली में दिहाड़ी पर बुलाया गया है. इसके लिए 350 रुपये तय किय गए हैं लेकिन रैली के बाद उनको रुपये नहीं दिए गए. वे सब मजूदरी करते हैं और उनको बहादुरगढ़ से लाया गया है. वे सब मिलाकर कुल 118 लोग हैं. सबको 350 रुपये देने का वादा किया गया था लेकिन अब टाला जा रहा है. वीडियो के साथ में मैसेज लिखा है,
आम आदमी पार्टी की किसान आंदोलन की सच्चाई, किसान न मिलने पर दिहाड़ी मजदूरों को पैसा देकर प्रदर्शन के लिए ले आये आपिये पर यहां भी घोटाला तय किए हुए पैसे में भी. केजरुदीन की असलियत ही यही है. थू है ऐसी राजनीति और पार्टियों पर.

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

PATIL JAYESH @PATILJA47004676 ने भी 5 दिसंबर को यह वीडियो पोस्ट की और लिखा,
Kissan Rally at ₹350/- per day per person.

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

The News Postmortem को भी मेंशन करते हुए PrataykshMishra @PrataykshMishr ने 5 दिसंबर को यह वीडियो ट्वीट की और लिखा,
148 आदमी किसान आन्दोलन के लिए बहादुरगढ़ (फरीदाबाद) हरियाणा से 350₹/ प्रतिदिन पर लाए गए हैं. अब इनको पैसे भी नहीं दे रहे, ये कैसी विडंबना है प्रभु!!

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

InVID टूल की मदद से हमने गूगल पर सर्च किया लेकिन कोई सफलता नहीं मिली. इसके बाद हमने गूगल पर ‘350 रुपये में आम आदमी पार्टी के लिए बुलाए गए कार्यकर्ता’ कीवर्ड से तलाशा तो headtopics का लिंक मिला. फरवरी 2020 में छपी खबर के मुताबिक, उस समय भी यह वीडियो वायरल हुई थी. दावा किया गया था कि दिल्ली चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी रुपये देकर मजदूरों को ला रही है. साथ यह भी कहा गया कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी के कार्याकर्ता छोडकर चले गए हैं इसलिए मजदूरों को लाना पड़ रहा है. इससे यह भी पता चला कि वीडियो मार्च 2018 हरियाणा के हिसार का है.

फिर हमने ‘हरियाणा के हिसार में मार्च 2018 में हुई अरविंद केजरीवाल की रैली में बंटे 350 रपये’ गूगल पर तलाया तो आज तक की खबर का लिंक मिल गया. 26 मार्च 2018 को पब्लिश खबर के मुताबिक, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की रैली हरियाणा के हिसार में हुई थी. रैली के बाद य​ह वीडियो वायरल हुआ था. इसमें दावा किया गया था कि बहादुरगढ़ से 350 रुपये में दिहाड़ी पर हिसार लाया गया था लेकिन अब उनको अगले दिन रुपये देने की बात कही जा रही है. हालांकि, आम आदमी पार्टी ने इसे भाजपा की साजिश बताया था. ‘आप’ के हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष नवीन जयहिंद ने कहा था कि भाजपा के कुछ लोगों ने ‘आप’ की टोपी यह प्रोपेगेंडा किया है. खबर में लगी फोटो वीडियो में दिख रहे लोगों की ही है.

350 rs paid for Aam Aadmi Party rally
Source: Aaj Tak

यूट्यूब पर भी ‘हरियाणा के हिसार में मार्च 2018 में हुई अरविंद केजरीवाल की रैली में बंटे 350 रपये’ तलाशा तो कुछ वीडियो लिंक भी मिल गए. वन Oneindia Hindi| वनइंडिया हिन्दी, ABP NEWS और News Tak पर मार्च 2018 में ये वीडियो अपलोड किए गए हैं.

Postmortem रिपोर्ट: 350 रुपये देकर दिहाड़ी मजदूरों को बुलाने वाला यह वीडियो मार्च 2018 हरियाणा के हिसार का है. आरोप था कि इनको अरविंद केजरीवाल की रैली के लिए बुलाया गया था. हालांकि, आम आदमी पार्टी ने इसके पीछे भाजपा की साजिश बताई थी. इसका किसान आंदोलन से कोई संबंध नहीं है. पहले भी यह वायरल हो चुका है.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : झूठ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Fact Check: क्या बीमार मां का इलाज कराने आए फौजी लक्ष्मण को पुलिसवालों ने बुरी तरह पीटा? जानिए क्या है सच

सोशल मीडिया पर दो वीडियो और कुछ फोटो तेजी से वायरल हो रहे हैं. इसमें एक में वीडियो में टाइटल Justice for...

Fact Check: इस फोटो में दिख रही बुजुर्ग महिला Akshay Kumar की मां नही हैं, जानिए कौन हैं ये

बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार की मां अरुणा भाटिया का 8 सितंबर की सुबह निधन हो गया. वह मुंबई स्थित हीरानंदानी अस्पताल...

Recent Comments

vibhash