Home History हकीकत #FactCheck क्या मुगल भारत में लाए थे रक्षा बंधन, इतिहासकार राणा सफवी...

#FactCheck क्या मुगल भारत में लाए थे रक्षा बंधन, इतिहासकार राणा सफवी हुईं ट्रॉल, जानिए सच

रक्षा बंधन के इतिहास को लेकर राणा सफवी को ट्विटर पर ट्रोल किया गया. जिसमें उन पर इतिहास की गलत व्याख्या करने का आरोप लगाया गया. जबकि उन्होंने इस तरह का कोई लेख नहीं लिखा था, बल्कि अखबार की गलत हैडिंग के चलते वे ट्रोलर्स का निशाना बन गयीं.

पूरे देश में भाई-बहन के प्यार का पर्व रक्षाबंधन मनाया जा रहा है, लेकिन कोरोना के कारण लोग उतने उत्साह के साथ यह त्यौहार नहीं मना पाए जैसा कि मनाते आते थे. वहीं इसके उलट आज माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर एक अजब ही ट्रेंड चल पड़ा. इसमें #Mughals नाम से एक ट्रेंड चला, जिसमें इतिहासकार राणा सफवी को निशाना बनाया गया. उन पर रक्षाबंधन की व्याख्या को लेकर कई यूजर ने आरोप लगाए, जिसका उन्होंने तर्कों के साथ जवाब भी दिया.

3 अगस्त को सुबह से ही True Indology नामक ट्विटर यूजर ने एक पोस्ट डाला, जिसमें उन्होंने इतिहासकार राणा सफवी के एक आर्टिकल को पोस्ट करते हुए उन्हें निशाना बनाया और उन्हें दुश्मन इतिहासकार बताया. लिखा कि मुगलों ने 18वीं सदी में रक्षाबंधन  की शुरुआत की थी. अंग्रेजी में एक मैसेज भी छोड़ा है. इस ट्वीट को 12 हजार से ज्यादा लोग लाइक और 6 हजार से ज्यादा रिट्विट कर चुके हैं. अंग्रेजी में मैसेज यह है.

This “eminent historian” declares that Mughals invented Rakhi in 18th century. Such blatant lies contradict every available primary source. Anyone having elementary knowledge would laugh at these factually incorrect lies. But in India such authors are promoted by establishment

इतिहासकार राणा सफवी को साधते हुए यह ट्रेंड वायरल होने लगा. खुद सफवी को आकर अपनी सफाई देनी पड़ी. उन्होंने अपने ट्वीट में इसको लेकर लिखा कि यह लेख 1885 मुगल दरबारी मुंशी फैजुद्दीन ने अपनी किताब बज्म-ए-आखिर में लिखा था. उन्होंने इसका 2018 में अनुवाद किया था. इसे हिन्दुस्तान टाइम्स ने छापा था और एक गलत शीर्षक लगाने की वजह से ऐसा हुआ. उन्होंने सम्पादक को इस बारे में पत्र लिखकर इसे सही करने को भी कहा था.

यही नहीं राणा सफवी ने इस सम्बन्ध में मिंट प्रकाशित सुधरा हुआ लेख भी ट्विटर यूजर के सामने रखा. जिसमें उन्होंने सभी को ये पढ़ने की सलाह दी.

जो पोस्ट वायरल हो रही है, उसका शीर्षक था कि कैसे मुगलों ने दिल्ली में रक्षाबंधन को जन्म दिया. इसमें  1759 में मुगल सम्राट आलमगीर द्वितीय की कहानी है, जिसमें उसके वजीर गाजी उद्दीन खान ने साजिश के तहत उसकी हत्या की थी. उसके शव को एक हिन्दू महिला ने सम्मान पूर्वक दफनाया. तब सम्राट के उत्तराधिकारी ने उस महिला को बहन बताते हुए राखी बंधवा ली. इतिहासकार राणा सफवी के मुताबिक, उन्हें पहले भी सोशल मीडिया पर ट्रोल किया गया था. फ़िलहाल उनका इरादा अभी किसी की भावनाएं आहत करने का नहीं रहा है.

Postmortem रिपोर्ट: सोशल मीडिया पर इतिहासकार राणा सफवी को लेकर जो आरोप लगाए जा रहे हैं, वो पूरी तरह सही नहीं हैं. अखबार में गलत शीर्षक लगने से इस तरह का भ्रम फैला, जिसे बाद में सुधारा गया. यानि ये पोस्ट पूरी तरह सही नहीं है.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash