Home Viral सच्चाई Fact-Check: क्या सपा के वरिष्ठ नेता कमाल अख्तर पर विवादास्पद बयान के...

Fact-Check: क्या सपा के वरिष्ठ नेता कमाल अख्तर पर विवादास्पद बयान के बाद यूपी पुलिस ने लाठीचार्ज किया? जानिए वायरल सच

Fact-Check( द न्यूज पोस्टमार्टम ): सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता राष्ट्रीय सचिव और पूर्व पंचायती राज्य मंत्री क़माल अख्तर कह रहे हैं कि उत्तर प्रदेश का किसी आईएएस,आईपीएस, किसी पीसीएस, किसी सीओ , किसी कोतवाल में इतनी हिम्मत नहीं, जो कमाल अख्तर के किसी भी काम को मना कर दे। दावा किया जा रहा है कि वीडियो में जिस शख्स की पिटाई की जा रही है वो कमाल अख्तर हैं और कमाल अख्तर का ये भ्रम यूपी पुलिस ने तोड़ दिया और उनकी जमकर पिटाई कर दी।

सोशल मीडिया पर लोगों की प्रतिक्रियाएं : वायरल वीडियो पर लोग अपने अंदाज़ में प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

फेसबुक यूजर सूरज राघव ने वीडियो शेेयर करते हुए लिखा –

समाजवादी पार्टी के नेताओ की औकात देखिये

योगीबाबा_UPका_राजा

पीस पार्टी मिशन 2022 ने फेसबुक पर वीडियो का फोटो साझा करते हुए लिखा –

यूपी पुलिस ने पूर्व मंत्री क़माल अख्तर को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। एक शेयर जरूर करें

फेसबुक यूजर रिक्की कुमार ने वीडियो को शेयर करते हुए लिखा –

दंगा भड़काने वाले सपा के पूर्व कैबिनेट मंत्री कमाल अख्तर को बीच सड़क पर यूपी पुलिस ने कंबल रजाई की तरह धोया सुंदर दृश्य को शेयर करें वाह रे योगी की पुलिस

वहीं ट्विटर पर वी एम मिश्रा ने वीडियो को शेयर करते हुए लिखा-

समाजवादी पार्टी के नेताओ की औकात देखिये

योगीबाबा_UPका_राजा https://t.co/mGqKPhUJkp

पड़ताल : द न्यूज़ पोस्टमार्टम ने इस वीडियो की पड़ताल शुरू की। वीडियो के पहले भाग को हमने खोजा, जिसमें क़माल अख्तर ने आईएएस- पीसीएस सम्बंधित वह बयान दिया। वीडियो के पहले भाग में क़माल अख्तर अख्तर को बयान देते सुने जा सकता हैै जिसमें वो कह रहे हैं, उत्तर प्रदेश का किसी आईएएस, किसी पीसीएस, किसी सीओ , किसी कोतवाल में इतनी हिम्मत नहीं, जो कमाल अख्तर के किसी भी काम को मना कर दे।

यह वीडियो अमरोहा टीवी पर 10 अप्रैल 2021 को अपलोड किया गया था। साथ ही एबीवी गंगा पर भी यह 9 अप्रैल 2021 को अपलोड किया गया।

अब वायरल वीडियो के दूसरे भाग पर आते हैं जिसमें एक शख्स पर पुलिस लाठीचार्ज कर रही है और लोग उस शख्स को क़माल अख्तर करार दे रही है। की-वर्ड से सर्च करने पर हमें एक 2011 का वीडियो मिला जिसमेंं एक शख्स पर पुलिस लाठीचार्ज कर रही है। सन् 2016 मेंं दैनिक जागरण ने इस वीडियो की पड़ताल की थी। दरअसल वीडियो में नजर आ रहे शख़्स क़माल अख्तर नहीं बल्कि अशोक उर्फ राजा चतुर्वेदी हैं। बात यह थी कि तत्कालीन बसपा सुप्रीमो मायावती सरकार का विरोध कर रहे समाजवादी पार्टी नेताओं को पीटा गया था। रिपोर्ट के मुताबिक, समाजवादी पार्टी ने सत्तारूढ़ बहुजन समाज पार्टी पर आरोप लगाया था कि उन्होंने गुंडागर्दी कर विधानसभा में प्रदर्शन कर रहे विधायकों को भगाया था।

वायरल वीडियो में किये जा रहे दावे को लेकर हमने सपा के पूर्व कैबिनेट मंत्री क़माल अख्तर से फोन पर सम्पर्क किया, वीडियो के सम्बन्ध में क़माल अख्तर के सोशल मीडिया प्रभारी/ प्रबंधक विक्की शर्मा से हमारी बातचीत हुई। हमने उन्हें वायरल वीडियो केे बारे में सूचित किया, विक्की शर्मा का कहना है कि, वीडियो में नजर आ रहे व्यक्ति कमाल अख्तर नहीं हैं। दरअसल यह वीडियो सन् 2011 का है जिसमें सपा के वरिष्ठ नेता राजा चतुर्वेदी को विधानसभा भवन के पास से विरोध प्रदर्शन करने के दौरान यूपी पुलिस ने लाठीचार्ज किया था।

पोस्टमार्टम : द न्यूज़ पोस्टमार्टम ने अपनी पड़ताल में पाया कि वायरल वीडियो में जिस शख्स पर लाठीचार्ज किया जा रहा है वो शख्स क़माल अख्तर नहीं बल्कि राजा चतुर्वेदी है, अतः वायरल वीडियो काफ़ी पुुुुुराना है, जिसे अब भ्रामक दावे के साथ वायरल किया जा रहा है।

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : भ्रामक

Pratayksh Mishrahttps://thenewspostmortem.com/
The Writer keep vision on viral claims. You can contact here. Email - prataykshmishra@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Fact-Check: सोशल मीडिया पर वायरल विरोध प्रदर्शन की यह पुरानी तस्वीर तमिलनाडु की नहीं बल्कि पश्चिम बंगाल की है।

Fact-Check (द न्यूज़ पोस्टमार्टम): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क्वाड समिट की बैठक समाप्त होने के बाद तमिलनाडु गए हैं। इस बीच सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल...

Fact-Check: “प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना” के नाम पर वायरल यह मैसेज फेक है

Fact-Check (द न्यूज़ पोस्टमार्टम): सोशल मीडिया पर एक मैसेज खूब वायरल हो रहा है। जिसमें लिखा है -"प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना" के लिए...

Fact-Check: जापान में सम्पन्न क्वाड समिट के एक वीडियो को लेकर किया जा रहा भ्रामक दावा

Fact-Check (द न्यूज़ पोस्टमार्टम): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन दिनों क्वाड समिट के लिए जापान यात्रा पर गए हैं। इसी को लेकर सोशल मीडिया पर...

Fact-Check: सोशल मीडिया पर वायरल बाढ़ की यह पुरानी तस्वीर कर्नाटक के बैंगलुरू की नहीं बल्कि उत्तराखंड की है

Fact-Check(द न्यूज़ पोस्टमार्टम): सोशल मीडिया पर बाढ़ में तैरती हुई कारों की एक तस्वीर इस दावे के साथ साझा की जा रही है...

Recent Comments

vibhash