Home Viral सच्चाई Fact-Check: नेपाल में मस्जिदों पर लाउडस्पीकर बैन हो गया है? जानिए वायरल...

Fact-Check: नेपाल में मस्जिदों पर लाउडस्पीकर बैन हो गया है? जानिए वायरल दावे का सच..

Fact-Check (द न्यूज़ पोस्टमार्टम): सोशल मीडिया पर  एक दावा वायरल किया जा रहा है जो नेपाल देश से सम्बंधित है। दावा किया जा रहा है कि नेपाल में मस्जिदों पर लाउडस्पीकर बैन हो गया है, और सुप्रीम कोर्ट ने लाउडस्पीकर लगाने को आपराधिक श्रेणी में रखा है।

वायरल दावे पर लोगों की प्रतिक्रियाएं:
वायरल दावे पर हर कोई अपने अंदाज में प्रतिक्रिया दे रहा है। 
फेसबुक यूजर पूजा कुमारीराजेश शर्मा सहित अन्य लोगों ने फेसबुक पर इस दावे को साझा किया है।
जिसमें लिखा है – 
नेपाल में अब नहीं लगेंगे मस्जिद पर लाउडस्पीकर।नेपाली सुप्रीम कोर्ट ने इसे अपराध की श्रेणी में रखा..

पड़ताल: द न्यूज़ पोस्टमार्टम ने इस दावे की पड़ताल शुरू की‌। हमने सबसे पहले नेपाल के सुप्रीम कोर्ट के वकील बुद्ध कुमार श्रेष्ठ जी 

 से सम्पर्क किया और वायरल दावे को साझा किया। बुद्ध कुमार जी ने कहा/लिखा – No, It’s not true. There is no cases and decesion about this issue.”नहीं, यह सच नहीं है। इस मामले में कोई केस और निर्णय नहीं लिया गया है।”

इसके बाद द न्यूज़ पोस्टमार्टम का सम्पर्क नेपाल फैक्ट चैक के सम्पादक उमेश श्रेष्ठ जी से हुआ। हमनें वायरल दावे के बारे में उनसे पूछा। उमेश जी ने कहा, “29 नवंबर सन् 2020 को लाउडस्पीकर से आवाज कम करने के लिए अदालत द्वारा एक अंतरिम आदेश दिया गया था।

उमेश जी ने बताया, सुप्रीम कोर्ट में मामला दर्ज किया गया था लेकिन अंतिम फैसला अभी लंबित है।”

आगे हमनें उनसे पूछा कि, मामला लाउडस्पीकरों पर प्रतिबंध लगाने या फिर लाउडस्पीकरों की आवाज़ को धीमा करने के लिए दर्ज किया गया था? उमेश जी ने बताया, “वह अंतरिम आदेश नहीं था बल्कि अस्थायी अंतरिम आदेश था”


पोस्टमार्टम : द न्यूज़ पोस्टमार्टम की पड़ताल में पाया गया कि नेपाल के सुप्रीम कोर्ट ने मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने का आदेश नहीं दिया, बल्कि कोर्ट के आदेश में लाउडस्पीकर के वॉल्यूम को सीमित रखने की बात कही गई थी। अतः नेपाल में मस्जिदों पर लाउडस्पीकर बैन होना या इसे आपराधिक श्रेणी में रखने वाला दावा पूरी तरह ग़लत है।

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : झूठ

Pratayksh Mishrahttps://thenewspostmortem.com/
The writer is a freelance journalist. Along with being a connoisseur of literature and political subjects, he monitors viral news. You can contact here. Email - prataykshmishra@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Fact-Check: क्या अम्बानी परिवार ने अयोध्या में राममंदिर के लिए सौर ऊर्जा प्लांट लगाने की घोषणा की है?

Fact-Check(द न्यूज़ पोस्टमार्टम): सोशल मीडिया पर एक दावा वायरल हो रहा है जिसमें कहा गया है कि अंबानी परिवार ने अयोध्या धाम...

Fact-Check:”आई सपा तो मन्दिर का निर्माण रूकेगा” क्या सपा ने बनाया है यह वीडियो?

Fact-Check (द न्यूज पोस्टमार्टम): सोशल मीडिया पर इन दिनों एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें कहा जा रहा है, "आएगी सपा...

Fact-Check: क्या सपा के वरिष्ठ नेता कमाल अख्तर पर विवादास्पद बयान के बाद यूपी पुलिस ने लाठीचार्ज किया? जानिए वायरल सच

Fact-Check( द न्यूज पोस्टमार्टम ): सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता...

Fact-Check: क्या एसपीजी ने राजीव गांधी की सुरक्षा की आड़ में एक भिखारी को गोलियों से भून दिया था?

Fact-Check(द न्यूज़ पोस्टमार्टम): पूर्व प्रधान मंत्री राजीव गांधी की अध्यक्षता में एक घटना का एसोसिएटेड प्रेस (एपी) फुटेज, जो राजघाट का है,...

Recent Comments

vibhash