Home Viral सच्चाई #FactCheck CAA प्रदर्शन में यूपी सरकार ने नहीं लगाया किसी रिक्शाचालक पर...

#FactCheck CAA प्रदर्शन में यूपी सरकार ने नहीं लगाया किसी रिक्शाचालक पर 21 लाख का जुर्माना, झूठा है दावा

अपने विवादित बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले फिल्म एक्टर एजाज खान एक फिर सोशल मीडिया पर झूठी तस्वीर साझा कर विवादों में घिर गए हैं. उन्होंने एक रिक्शाचालक की तस्वीर साझा कर योगी सरकार पर निशाना साधा है. तस्वीर को अन्य कई भी एकाउंट और कई अन्य प्लेटफ़ॉर्म पर भी उत्तर प्रदेश सरकार को कठघरे में खड़ा करने के लिए वायरल किया जा रहा है.

The News Postmortem टीम ने इस तस्वीर की पड़ताल शुरू की. एक्टर एजाज खान ने इसी 7 जुलाई को अपने ट्विटर एकाउंट पर एक रिक्शा चालक की तस्वीर अपलोड की, जिसमें उन्होंने लिखा एंटी CAA प्रदर्शनकारियों को अपने रिक्शे में बिठाने के जुर्म में योगी सरकार ने कलीम को 21 लाख 76 हज़ार जमा करने का नोटिस भेजा, कलीम वसूली जमा नहीं कर पाये तो उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है, अब मज़दूरो के साथ भी बीजेपी का सीएम ने ठोको नीति वाला रवैया अपना लिया है,शर्म करो.

Source: Actor Ajaz Khan tweet

पोस्ट में रिक्शाचालक का नाम कलीम बताया गया है. जब #TheNewsPostmortem की टीम ने इस तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज पर सर्च किया तो इस तस्वीर से मिलती जुलती कई तस्वीरें मिलीं. इसमें हमें हुबहू इसी तस्वीर के साथ द हिन्दू अखबार के तमिल भाषा का 4 अप्रैल 2020 का लिंक मिला. इसे हमने तमिल से हिंदी में ट्रांसलेट के बाद पाया कि यह तस्वीर लखनऊ की नहीं बल्कि दिल्ली के मोती नगर मेट्रो स्टेशन के बाहर की है. तस्वीर में दिख रहे रिक्शा चालक का नाम कलीम नहीं बल्कि उत्तम सिंह है. वह लॉकडाउन में लोगों की मदद कर रहा है. यानि एजाज खान और उन जैसे कई यूजर्स जो दावा कर रहे हैं वो पूरी तरह गलत है.

Source: the hindu

इसके बाद हमने गूगल सर्च इंजन में इस खबर से सम्बन्धित कीवर्ड्स सर्च किये तो भी 3 अप्रैल 2020 का द हिन्दू अखबार के अंग्रेजी एडिशन का लिंक मिला, जिसमें उत्तम सिंह की कहानी है। वह निस्वार्थ भाव से लॉकडाउन में लोगों की मदद कर रहे हैं. इस तस्वीर को हेमानी भंडारी ने मोती नगर मेट्रो स्टेशन के पास भेजा है. यानि ये सिद्ध हो गया कि ये रिक्शा चालक कलीम नहीं बल्कि उत्तम सिंह है.

Source: the hindu

एजाज खान और कई लोगों ने गलत तथ्यों को पेश करते हुए उत्तर प्रदेश सरकार और यूपी पुलिस पर आरोप लगाए हैं, जो हमारी पड़ताल में साबित हुए. यहां बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून यानि CAA को लेकर देश भर में कई जगह विरोध प्रदर्शन हुए. उत्तर प्रदेश में कई जगह हिंसा भी हुई, लेकिन अभी तक उत्तर प्रदेश पुलिस के रिकॉर्ड में भी इस तरह की कोई कार्रवाई नहीं हुई. जिसमें किसी रिक्शाचालक पर इतना जुर्माना लगाया गया हो. फ़िलहाल हमारी सलाह है कि बिना तथ्यों के समझे या जाने इस तरह की पोस्ट से बचें.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट: एजाज खान और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर जो रिक्शाचालक की तस्वीर साझा की जा रही है वो पूरी तरह गलत है. तस्वीर कलीम की नहीं बल्कि उत्तम सिंह निवासी दिल्ली की है. यानि यह पूरी तरह फेक न्यूज है.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK :

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Fact-Check: क्या अम्बानी परिवार ने अयोध्या में राममंदिर के लिए सौर ऊर्जा प्लांट लगाने की घोषणा की है?

Fact-Check(द न्यूज़ पोस्टमार्टम): सोशल मीडिया पर एक दावा वायरल हो रहा है जिसमें कहा गया है कि अंबानी परिवार ने अयोध्या धाम...

Fact-Check:”आई सपा तो मन्दिर का निर्माण रूकेगा” क्या सपा ने बनाया है यह वीडियो?

Fact-Check (द न्यूज पोस्टमार्टम): सोशल मीडिया पर इन दिनों एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें कहा जा रहा है, "आएगी सपा...

Fact-Check: क्या सपा के वरिष्ठ नेता कमाल अख्तर पर विवादास्पद बयान के बाद यूपी पुलिस ने लाठीचार्ज किया? जानिए वायरल सच

Fact-Check( द न्यूज पोस्टमार्टम ): सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता...

Fact-Check: क्या एसपीजी ने राजीव गांधी की सुरक्षा की आड़ में एक भिखारी को गोलियों से भून दिया था?

Fact-Check(द न्यूज़ पोस्टमार्टम): पूर्व प्रधान मंत्री राजीव गांधी की अध्यक्षता में एक घटना का एसोसिएटेड प्रेस (एपी) फुटेज, जो राजघाट का है,...

Recent Comments

vibhash