Home Viral सच्चाई #FactCheck अयोध्या के पूर्व एसएसपी के नाम से की जा रही यह...

#FactCheck अयोध्या के पूर्व एसएसपी के नाम से की जा रही यह पोस्ट फर्जी है, इसे शेयर मत करें

जहां अयोध्या में 5 अगस्त को होने वाले राम जन्म भूमि के भूमि पूजन की तैयारियां चल रही हैं, वहीं सोशल मीडिया पर भी लगातार अयोध्या और राम जन्म भूमि छाया हुआ है. इस समय सोशल मीडिया पर एक पोस्ट काफी वायरल हो रही है, जिसमें आईपीएस आशीष तिवारी के तबादले को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा जा रहा है.

मीडिया आलोचक @0786Ha ने 28 जुलाई को अयोध्या के पूर्व एसएसपी आशीष तिवारी की फोटो ट्वीट की और लिखा,
ताजातरीन खबर
ताजातरीन खबर ये है कि SSP अयोध्या आशीष तिवारी ने यूपी के मुख्यमंत्री Yogi जी को साफ बोल दिया कि 5 अगस्त को भीड़ नही जमा होने दूंगा.
अगर आप चाहते हैं तो लिखित दीजिये
मुख्यमंत्री, अजय सिंह बिष्ट, को एक तिवारी (ब्राम्हण) IPS की ये बेबाकी पसंद नहीं आई और रात में ही ट्रांसफर कर दिया।

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

Mahima Mishra Mzp के फेसबुक अकाउंट से भी कुठ इसी तरह की पोस्ट की गई. सपा नेत्री महिमा मिश्रा ने लिखा,
SSP अयोध्या आईपीएस आशीष तिवारी जी ने योगी जी को साफ बोल दिया कि 5 अगस्त को भीड़ नही जमा होने दूंगा,अगर आप चाहते हैं, तो लिखित दीजिये।
मुख्यमंत्री जी ने रात में ही ट्रांसफर कर दिया।
जय हो
यह ब्राम्हण शेर की एक छोटी सी दहाड़ है, सम्भल जाओ योगी मोदी।
महिमा मिश्रा मिर्जापुर

SSP अयोध्या आईपीएस आशीष तिवारी जी ने योगी जी को साफ बोल दिया कि 5 अगस्त को भीड़ नही जमा होने दूंगा,अगर आप चाहते हैं, तो…

Posted by Mahima Mishra Mzp on Saturday, August 1, 2020

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

Naresh Pandit नाम से बने फेसबुक अकाउंट से भी 2 अगस्त को एसएसपी आशीष तिवारी की फोटो पोस्ट करते हुए लिखा गया,
ताजातरीन खबर ये है कि
SSP अयोध्या आशीष तिवारी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री Yogi Adityanath जी को साफ बोल दिया कि 5 अगस्त को भीड़ नही जमा होने दूंगा,
अगर आप चाहते हैं तो लिखित दीजिये,
मुख्यमंत्री, जी को एक तिवारी (ब्राम्हण) IPS की ये बेबाकी पसंद नहीं आई और रात में ही ट्रांसफर कर दिया।
बाकी तो रामराज्य चल ही रहा है!!
ऐसे ब्राह्मण की जरूरत है समाज को

ताजातरीन खबर ये है कि,👇👇SSP अयोध्या आशीष तिवारी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री Yogi Adityanath जी, को साफ बोल दिया कि…

Posted by Naresh Pandit on Saturday, August 1, 2020

आर्काइव देखने के लिए यहां क्लिक करें.

इस तरह की पोस्ट सामने आने के बाद हमें आईपीएस आशीष तिवारी का ट्वीट भी मिला. Ashish Tiwari,IPS @IpsAshish ने 2 अगस्त को ट्वीट किया,
मेरे नाम के साथ, मेरी फोटो के साथ सोशल मीडिया पर उड़ाई जा रही किसी भी अफवाह पर ध्यान न दें और ना ही share करें
अन्यथा ऐसे फ़ेक न्यूज़ फैलाने वालों के ख़िलाफ़
सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

Asianetnews के अनुसार, मध्य प्रदेश के इटारसी के रहने वाले आशीष तिवारी 1 करोड़ रुपये के पैकेज वाली जॉब छोड़कर सिविल सर्विसेज की तैयारी में लगे थे. 2011 में उनका चयन IRS में हुआ था। इसके बाद 2012 में आईपीएस में सेलेक्शन हुआ था।

जागरण के मुताबिक, आईआईटी के छात्र रहे आईपीएस आशीष तिवारी ने जून 2019 में अयोध्या में एसएसपी की कमान संभली थी. पुलिसिंग को स्मार्ट बनाने के लिए उन्होंने तकनीक का इस्तेमाल किया. उन्होंने 6 वेबसाइट और कई वाट्सएप ग्रुप के जरिए पुलिसिंग को बेहतर बनाया. इसके जरिए ही उन्होंने लोगों से संवाद करने का रास्ता भी निकाला था। पिछले साल नवंबर में जब राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया था तब अयोध्या में पूर्ण शांति रही थी. सामाजिक कुरीतियों के खात्मे के लिए उन्होंने ग्रीन ग्रुप भी बनाया था। अब जिले में पहली बार डीआईजी रैंक के अधिकारी को तैनात किया गया है. इस वजह से आईपीएस आशीष तिवारी का ट्रांसफर एसपी रेलवे झांसी कर दिया गया.

Postmortem रिपोर्ट: आईपीएस आशीष तिवारी के ट्वीट से साफ हो गया कि यह सब अफवाह फैलाई जा रही है. हमारी भी आपसे अपील है कि इस तरह की फर्जी पोस्ट या स्क्रीन शॉट को वायरल होने से रोकें.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash