Home Viral सच्चाई #FactCheck जानिए, ANI के दोनों स्क्रीनशॉट्स की क्या है हकीकत

#FactCheck जानिए, ANI के दोनों स्क्रीनशॉट्स की क्या है हकीकत

ANI के दो स्क्रीनशॉट शेयर करके कई ट्विटर यूजर्स ने सरकार और NTA पर निशाना साधा है. दोनों स्क्रीनशॉट्स में बस लोकेशन अलग—अलग छत्तीसगढ़ और झारखंड लिखी हुई है.

1 सितंबर से Joint Entrance Examination (JEE)— Main 2020 की परीक्षा शुरू हो गई है. इसके साथ ही कई खबरें भी सोशल मीडिया पर तैर रही हैं. इनमें से ANI के स्क्रीनशॉट्स भी हैं. परीक्षा का विरोध कर रहे कई लोगों ने इनको लेकर सरकार पर भी निशाना साधा है. इन स्क्रीनशॉट्स को ट्विटर पर कई यूजर्स ने शेयर किया है.

Licypriya Kangujam @LicypriyaK ने 1 सितंबर को ANI के दो स्क्रीनशॉट्स को शेयर किया. साथ में उन्हेांने लिखा,
The logic of both @ANI and @DrRPNishank are similar…
See below guys..
Same image for two different state – Jharkhand and Chhattisgarh are using to say they maintain social distancing to mislead the nation. ANOTHER BIG LIE.

#JEEMain #PrayForJEEStudents

मतलब ANI और डॉ. रमेश पोखरियाल का लॉजिक एक जैसा है. झारखंड और छत्तीसगढ़ के दो एक जैसी फोटो ट्वीट की गई हैं. इसके जरिए देश को भ्रमित करने के लिए यह बताया गया है कि परीक्षा में सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया गया है. एक और बड़ा झूठ.
ट्वीट किए गए स्क्रीनशॉट्स में लिखा है,
Jharkhand: Candidates enter #JEEMain examination centre in Ranchi while observing social distancing norms.
A candidate from Hatiya, Shreyanshi Mishra says, “We have been informed that we will undergo sanitisation, thermal check & frisking before we enter the computer lab.”
मतलब
झारखंड: रांची के JEE Main exam centre में प्रवेश करते अभ्यर्थी सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन करते हुए.
हतिया से एक परीक्षार्थी श्रेयष्ठी मिश्रा का कहना है, हमें इस बारे में जानकारी दी गई थी कि कंप्यूटर लैब में जाने से पहले हम सैनिटाइजेशन, थर्मल स्क्रीनिंग और तलाशी प्रक्रिया से गुजरेंगे.
यह वेरीफाइड ट्विटर अकाउंट हैं और इसको अब तक 5300 से ज्यादा लोग रिट्वीट कर चुके हैं.

Dipika Acharya @DipikaAcharya__ के अकाउंट से भी 1 सितंबर को ये दोनों स्क्रीनशॉट्स ट्वीट किए गए. साथ में लिखा,
ANI using same pic for multiple center to make a clear image of NTA and pokhariyal.
Shame !! Shame !!
मतलब एएनआई एनटीए और पोखरियाल की साफ छवि बनाने के लिए कई सेंटरों की एक जैसी पिक्चर इस्तेमाल कर रही है.
इस ट्वीट को भी अब तक 1400 से ज्यादा लोग रिट्वीट कर चुके हैं.

The News Postmortem ने इस पोस्ट की पड़ताल के लिए सबसे पहले ANI @ANI का ट्विटर अकाउंट चेक किया. इसमें हमें 1 सितंबर का सुबह 9.18 मिनट का ट्वीट मिला. इसमें वहीं फोटो इस्तेमाल की गई थीं. इसमें कैप्शन लिखा है,
Jharkhand: Candidates enter #JEEMain examination centre in Ranchi while observing social distancing norms.
A candidate from Hatiya, Shreyanshi Mishra says, “We have been informed that we will undergo sanitisation, thermal check & frisking before we enter the computer lab.”

JEE Main Exam 2020 Photo

पोस्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें.

इससे पहले ANI का 1 सितंबर का सुबह 8.50 एक ट्वीट मिला. इसमें छत्तीसगढ़ के सेंटर्स की फोटोज थीं. इसमें कैप्शन लिखा था,
Chhattisgarh: Candidates appearing in #JEEMain arrive at ICE centre in Raipur’s Sarona, that has been designated as an examination centre.

Licypriya Kangujam @LicypriyaK ने भी 1 सितंबर को अपने ही ट्वीट पर कमेंट किया,
They have now deleted Chhattisgarh one.
मतलब अब छत्तीसगढ़ का ट्वीट डिलीट कर ​दिया गया है.
स्क्रीनशॉट में एक झारखंड का ट्वीट 2 मिनट पहले और छत्तीसगढ़ का 7 मिनट पहले का है. मतलब छत्तीसगढ़ का ट्वीट पहले किया गया है.

ANI के दोनों ट्वीट में चारों फोटो एक जैसी हैं. कंटेंट में अगर झारखंड और छत्तीसगढ़ को छोड़ दें तो सब समान है. मतलब केवल लोकेशन लिखने में गलती हो गई. ऐसा लगता है कि ट्वीट करने वाले से गलती से पहले झारखंड की छत्तीसगढ़ टाइप हो गया होगा, जिस वजह से बाद में यह ट्वीट डिलीट कर दिया गया. कई ट्विटर यूजर्स ने कमेंट में इसकी संभावनाएं भी जताई हैं. इसके पीछे किसी को भ्रमित करने की मंशा बिल्कुल नहीं होगी.

Postmortem रिपोर्ट: एएनआई के स्क्रीनशॉट्स शेयर करके लोगों को भ्रमित करने के आरोप गलत हैं. ऐसा गलती से हुआ होगा, जिसे ट्वीट करके सुधार लिया गया.

डोनेट करें!
न हम लेफ्ट के साथ हैं और न राइट के साथ. हम बस सच के साथ हैं. पत्रकारिता निष्पक्ष होनी चाहिए. फर्जी और नफरत फैलाने वाली खबरों के खिलाफ हम हमेशा जंग लड़ते रहेंगे और आपको ऐसी फेक पोस्ट से सचेत करते रहेंगे. अगर आप हमारा समर्थन करते हैं तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें हमें कुछ आर्थिक मदद दें और हमारा उत्साह बढ़ाएं.

Donate Now

FACT CHECK : भ्रामक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Fact Check: जमीन पर गिरे शख्स पर कूदने वाला फोटोग्राफर गिरफ्तार, जानिए किस संस्थान के साथ जुड़ा है आरोपी

असम में पुलिस फायरिंग और लाठीचार्ज के बाद राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा जा रहा है. इसकी कई तस्वीरें और वीडियो...

Fact Check: क्या BBC के भ्रष्ट पार्टियों के सर्वे में Congress तीसरे नंबर पर है? जानिए क्या है सच

क्या BBC ने कोई सर्वे कराया है? जिसमें रिजल्ट आया है कि विश्व की 10 सबसे भ्रष्ट राजनैतिक पार्टियों में कांग्रेस तीसरे...

Fact Check: हाईकोर्ट ने लगाई थी गंगा व यमुना में मूर्ति विसर्जित करने पर रोक, अखिलेश यादव ने नहीं रोका था गणपति विसर्जन से

क्या सन् 2015 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आदेश पर वाराणसी में गणपति के प्रतिमा विसर्जन पर रोक लगी थी? क्या...

Fact Check: नागपुर में CM आवास के पास हिंदू लड़कियों ने अपनी मर्जी से पहना हिजाब, जानिए कब होता है World Hijab Day

क्या नागपुर में कुछ मुस्लिम महिलाओं ने हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाया है? इस तरह के दावे के साथ सोशल मीडिया पर...

Recent Comments

vibhash